एक रिपोर्ट के अनुसार, विश्वभर में 7 से 10 मिलियन लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं। उम्र बढ़ने के साथ इसका रिस्क बढ़ जाता है और पुरुषों को महिलाओं की तुलना में ये रोग अधिक होता है।

पार्किंसन रोग क्या है?

पार्किंसन रोग क्या है?

ये एक neurodegenerative बीमारी है। इसमें ब्रेन के न्यूरोन/सेल्स degenerate होते हैं उसमें से निकलने वाले रसायन कम हो जाते हैं।

पार्किंसन रोग के कारण

पार्किंसन रोग के कारण

अनुवांशिक कारणों के अलावा तनाव, सिर में चोट लगने की वजह से या रसायन युक्त भोजन करने की वजह से भी पार्किंसन बीमारी का खतरा अधिक होता है।

पार्किंसन डिजीज ट्रीटमेंट इन आयुर्वेद

पार्किंसन डिजीज ट्रीटमेंट इन आयुर्वेद

मेधावटी 

मेधावटी 

मेधावटी में मस्तिष को पहुंचाने वाले सभी द्रव मौजूद हैं। इसके सेवन से अनिद्रा, अवसाद और बुढ़ापे में भ्रम पड़ने जैसी स्थिति को ठीक किया जाता है।

अश्वशिला 

शिलाजीत में fulvic acid पाया जाता है जो मस्तिष्क संबंधी विकारों को दूर करता है और शारीरिक कम्पन को भी ठीक करने में मदद करता है।

त्रयोदशांग गुग्गुल 

त्रयोदशांग गुग्गुल 

इसमें अश्वगंधा, गिलोय, शतावरी, गोखरू, गुग्गलु जैसे घटक द्रव्य हैं जो पार्किंसन रोग में उपयोगी माने जाते हैं। 2 गोली सुबह-शाम गुनगुने जल या दूध के साथ सेवन करें।

पार्किंसन रोग के लिए योग और आहार जानने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें 

पार्किंसन रोग के लिए योग और आहार जानने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें 

Click Here