Thakan ke karan

थकान और सुस्ती के कारण व इसे दूर करने की आयुर्वेदिक दवा | Susti or Thakan ke karan

Spread the love

थकान और सुस्ती के कारण व आलस दूर करने की आयुर्वेदिक दवा Susti or Thakan ke karan

क्या आपको सारा दिन आलस रहता है? थोड़ा सा काम करने पर भी थकान महसूस करते हैं? क्या सुबह उठते ही ताजगी की अपेक्षा आलस आता है? यदि हाँ, तो अब इस एहसास से छुटकारा पाने का समय आ गया है।

देखिये कुछ मौकों पर आलस्य आना स्वाभाविक है जब हमारा किसी काम को करने का मन नहीं होता तो हमें सुस्ती और आलस आता है। परन्तु जब सुस्ती और थकान शारीरिक कमजोरी के कारण लम्बे समय तक बनी रहे तब इसकी तरफ ध्यान देना आवश्यक हो जाता है।

मैं आपको ऐसे प्रभाशाली तरीके बताऊंगा जिनकी मदद से आप थकान और सुस्ती को पूरी तरह गायब कर देंगे लेकिन उससे पहले हम जान लेते हैं कि इसके कारण क्या हैं?

आखिर किन कारणों से होता पुरुषों के अंडकोषों में दर्द

किन कारणों से होती है थकान और सुस्ती (Thakan ke karan)

जब हम अधिक काम करते हैं तब थकान होना स्वाभाविक है परन्तु हमेशा थके रहना और सुस्ती आना ये अच्छा संकेत नहीं है। इसके निम्लिखित कारण हो सकते हैं –

1.खून की कमी (Low Hemoglobin) के कारण भी सुस्ती और थकान रहती है
2.जो लोग underweight होते हैं, उन्हें भी ये समस्या होती है
3.vitamin D, B12 और nutrients की कमी के कारण
4.पाचनशक्ति कमजोर होने के कारण भी कमजोरी होती है
5.हृदय सम्बन्धी रोगों के कारण भी थकान महसूस होती है
6.यदि हम ज्यादा तनाव और चिंता करते हैं तो इस वजह से थकान होती है
7.नींद पूरी न होने के कारण भी चिचिड़ापन और कमजोरी आती है
8.अधिक गैस बनने के कारण भी आलस्य आता है
9.जीवन में किसी लक्ष्य का न होना सुस्ती और आलस्य का कारण है

प्रभावशाली तरीके जिनसे सुस्ती और थकान दूर होगी

आइये समय न बर्बाद करते हुए जानते हैं कुछ ऐसे प्रभावी तरीके जिनकी मदद से सुस्ती, थकान और आलस्य गायब हो जाएंगे और आप energetic महसूस करेंगे।

1. मीठे आम का रस –

यदि हीमोग्लोबिन की कमी के कारण कमजोरी है तो मीठे आम का रस 125 ग्राम, दूध 250 ग्राम, चीनी मिलाकर लस्सी की तरह बनाकर 2 महीने तक शाम को पियें। शरीर की कमजोरी को ठीक करने के लिए बहुत ही बढ़िया तरीका है। आप चाहे तो बर्फ डालकर भी पी सकते हैं।

2. आंवले का मुरब्बा –

जिन व्यक्तियों का दिल तेजी से धड़कता हो और उस वजह से थकान या कमजोरी महसूस होती हो, तो इसके लिए आपको 50 ग्राम आंवले के मुरब्बे पर चांदी का वर्क लगाकर 20 दिन तक सुबह खाली पेट खाएं, बहुत फ़ायदा करता है।

3. शहद –

पेट में गैस बनने की वजह से भी आलस और सुस्ती रहती है। इसके लिए आपको 100 ml पानी में इतना शहद डालना है कि मीठा शर्बत बन जाए। गर्मीं के दिनों में रोजाना सुबह शाम 2 महीने तक पीने से पेट साफ़ हो जाता है और गैस की समस्या भी दूर होती है।

4. नाश्ता हैवी करें –

कुछ लोग तो काम के चक्कर में नाश्ता करना ही भूल जाते हैं, जिससे बॉडी में ग्लूकोस की कमी हो जाती है और एनर्जी डाउन हो जाती है, जिसके कारण सारा दिन शरीर में कमजोरी बनी रहती है। इसलिए नाश्ता राजा की तरह करें, लंच राजकुमार की तरह और डिनर भिखारी की तरह।

5. ध्यान करें –

किसी कारण वश लोग दिमाग पर इतना स्ट्रेस ले लेते हैं कि सारा दिन उन्हें अपनी ही होश नहीं रहती कि वे क्या करना चाहते हैं और क्या कर रहें हैं, जिस कारण सारा दिन बुझे बुझे और थका हुआ महसूस करते हैं।

इस समस्या से निजात पाने के लिए सुबह-शाम ध्यान-योग का अभ्यास करें। ध्यान आपके शरीर, मन और भावनाओं को नियंत्रित करने का कार्य करता है, ये विज्ञान ने भी माना है।

6. धूप में जरूर बैठें –

vitamin D की कमी के कारण भी थकान और सुस्ती महसूस होती है। इस लिए 15-20 min धूप में बैठना आपके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा हो सकता है। परन्तु धूप में सिर्फ सर्दियों में ही बैठें गर्मियों में नहीं।

7. नियमित व्यायाम करें –

लगातार बैठे रहने से भी आलस्य और सुस्ती आती है। इसलिए अपने शरीर को व्यायाम जरूर कराएं क्यूंकि इससे खून का दौरा बढ़ता है और आप energetic महसूस करते हैं। साथ ही नित्य व्यायाम करने से आपका मेटाबोलिज्म भी अच्छा होता है।

8. खजूर खाएं –

जिन लोगों को underweight होने कारण कमजोरी महसूस होती है, उनके लिए खजूर खाना बहुत ही उपयोगी है। रात को सोते समय 3 खजूर खाएं और ऊपर से दूध पी लें। कुछ ही दिनों में कमजोरी और सुस्ती की शिकायत दूर हो जायेगी। इस नुस्खे को भी सर्दियों में प्रयोग करें।

9. हरा धनिया –

हरा धनिया में प्रोटीन, फाइबर, मिनरल और carbohydrate होते हैं जो पाचन शक्ति बढ़ाने में कारगर होते हैं साथ ही यह एनीमिया से भी राहत दिलाते हैं।

जिनके शरीर में कमजोरी और सुस्ती रहती है वह धनिया और हरीमिर्च की चटनी दोपहर और रात को रोटी के साथ खाएं, अत्यन्त लाभ होगा।

10. मछली का सेवन –

मछली विटामिन E से भरपूर होती है जो थकान और सुस्ती को दूर करने में रामबाण है। इससे शरीर में ऊर्जा आती है और आलस्य को दूर करने में भी उपयोगी है। हफ्ते में एक बार आप मछली का सेवन कर सकते हैं।

11. अपना पसंदीदा काम करें –

जब भी कभी आप अपना पसंद का काम नहीं करते तो आपको जल्दी आलस आ जाता है क्यूंकि आपका उस काम को करने में interest ही नहीं है।

इसके लिए आपको अपने काम से थोड़ी-थोड़ी देर में ब्रेक लेना चाहिए ताकि आप बोर न हों और आपकी रूचि उस काम को करने में बनी रहे।

कमर दर्द, कमजोरी, थकान और सुस्ती को दूर करने की आयुर्वेदिक दवा

सामग्री –

  • सालब मिश्री – 3 ग्राम
  • मूसली सफ़ेद – 3 ग्राम
  • दूध – 400 ग्राम

बनाने का तरीका –

दूध को आग पर उबालें और उसमें सालब मिश्री और मूसली सफ़ेद डालकर चम्मच से चलाएं। जब दूध गाढ़ा हो जाए तो थोड़ी सी खांड मिलाएं। इस खीर को सुबह व रात्रि को सोते समय 20 दिन तक खाएं। खटाई का परहेज करें।

निष्कर्ष

क्या आपने इनमें से किसी तरीके का प्रयोग किया है थकान को भगाने में या आपके पास कोई सुझाव हो तो उसे कमेंट बॉक्स में अवश्य शेयर करें। धन्यवाद।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न- थकान महसूस होने पर तुरंत क्या करें?

उत्तर- यदि गर्मियों में आप ऐसा महसूस कर रहे हो तो ठंडा पानी पियें, ये आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ाएगा और एनर्जी देगा। स्वाद के लिए आप इसमें ग्लुकोन-डी भी मिला सकते हैं।

प्रश्न- सुबह उठते सुस्ती महसूस हो तो क्या करें?

उत्तर- पहले बेड से उठें और उसके बाद हल्का-फुल्का व्यायाम करें, इससे जो वात सिर पर चढ़े होने के कारण सुस्ती होती है, वह ठीक हो जाती है।

प्रश्न- शरीर में कमजोरी दूर करने के लिए क्या खाएं?

उत्तर- शरीर में कमजोरी महसूस हो तो सेब खाएं, उसी समय आपको एनर्जी महसूस होगी। यदि पानी की कमी के कारण कमजोरी आ गयी है तो तरबूज का सेवन बहुत उपयोगी है क्यूंकि इसमें 92% पानी होता है।

इन्हें भी पढ़ें-

दांतों की सड़न और दर्द को दूर करने के रामबाण आयुर्वेदिक उपचार

मानसिक रोगी बना सकती ये 9 बुरी आदतें। आज से ही छोड़ें

अश्वगंधा के लाभ सिर्फ पुरुषों को ही नहीं बल्कि स्त्रियों को भी होते हैं


Spread the love

12 thoughts on “थकान और सुस्ती के कारण व इसे दूर करने की आयुर्वेदिक दवा | Susti or Thakan ke karan”

  1. Pingback: घरेलु तरीकों से स्टैमिना कैसे बढ़ाएं - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  2. Pingback: डायबिटीज क्या है? लक्षण और इसे कण्ट्रोल में रखने के 13 घरेलू तरीके | Diabetes kya Hai or Iske Lakshan - घरेलू नुस्खे - चरक

  3. Pingback: इन 7 आदतों को जल्दी छोड़ें नहीं तो कम उम्र में बूढ़ा दिखने लगेंगे | Aging Faster Signs in Hindi - घरेलू नुस्खे - चरक संहि

  4. Pingback: Constipation: पेट साफ़ करने के 9 घरेलू उपाय, कब्ज़ के कारण और लक्षण | Pet Saaf Kaise Kare - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  5. Pingback: Mental Health: ये 9 आदतें आपके मस्तिष्क पर डालती हैं बुरा प्रभाव, आप बन सकते हैं मानसिक रोगी - घरेलू नुस्खे - च

  6. Pingback: गर्मियों में इम्युनिटी (Immunity) बढ़ाने के 9 असरदार घरेलू उपाय | Immunity Badhane ke Upay - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  7. Pingback: आँखों के नीचे पड़े (Dark Circle) काले घेरे हटाने के घरेलू उपाय | Dark Circles Hatane ke 7 Gharelu Upay - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  8. Pingback: शिलाजीत क्या है, प्रकार, फायदे, खुराक और साइड-इफ़ेक्ट | Shilajit Ke Fayde or Side Effects - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  9. Pingback: ऐसे गजब के घरेलू उपाय जो डिप्रेशन और चिंता को दूर करेंगे | 7 Magical Home Remedies for Depression & Anxiety in Hindi - घरेलू नुस्खे - च

  10. Pingback: Leucorrhoea: महिलाओं में सफ़ेद पानी की समस्या को ठीक करने के रामबाण घरेलू उपचार | 7 Home Remedies for White Discharge in Female in Hindi - घरे

  11. Pingback: मानसिक रोगों को बिना दवाओं के कैसे ठीक करें | How to Treat Mental Illness without Medication in Hindi - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  12. Pingback: Hypertension: हाई बीपी को तुरंत नियंत्रित करने के घरेलू उपाय | Immediate Relief Home Remedies For High BP - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!