stamina kaise badhaye

स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय | Stamina Badhane ke Upay

Spread the love

स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय Stamina Badhane ke Upay

स्टैमिना शारीरिक और मानसिक दोनों मायनों में मापा जाता है। इसे ऐसे समझिये जैसे एक धावक दौड़ लगाते हुए जल्दी थक जाता है तो ये मानिये पहले उसका मस्तिष्क थका है बाद में शरीर।

यदि कोई व्यक्ति अपना दिनभर का काम करने के बाद शाम को थका हुआ महसूस करे तो समझिये उसमें स्टैमिना का अभाव है।

आपको भी लगता है कि आप के अंदर स्टैमिना की कमी है तो चिंताग्रस्त होने की कोई बात नहीं है क्यूंकि इस लेख में मैं आपको बताऊंगा की कैसे घरेलू तरीकों से स्टैमिना को बढ़ाया (स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय) जा सकता है।

लेकिन उससे पहले जानते हैं की स्टैमिना का अर्थ क्या है?

स्टैमिना का अर्थ?

स्टैमिना (सहनशक्ति) का वास्तविक अर्थ यह है कि आप कितने लम्बे समय तक कोई शारीरिक या मानसिक क्रिया करने में समर्थ हैं। अन्य शब्दों में कहूं तो दिन भर का अपना कार्य करने के बाद चाहे वो मानसिक हो या शारीरिक आप थकान महसूस न करें और बीमारी के समय भी आपके मानसिक या शारीरिक पीड़ा को सहने की शक्ति को stamina कहते हैं।

आइये अब जानते हैं स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय Stamina Badhane ke Upay

आज हम ऐसे तरीकों के बारे में बताएंगे जिनसे हम घर पर ही अपने stamina को बढ़ा सकते (स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय) हैं। क्यूंकि जितना ज्यादा हमारा stamina होगा उतना ही हम खुश भी रहेंगे। तो आइये अब जानते हैं कुछ ऐसे घरेलू तरीके जो हमारी शारीरिक क्षमता को बढ़ाएंगे।

1. योगासन –

देखिये दोस्तों, योगासन एक ऐसी व्यायाम पद्यति है जो शारीरिक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ मानसिक शक्ति को भी बढ़ाती है। इसलिए मैंने इसे अपनी सूची में पहले पायदान पर रखा है।

अब जैसा कि मैंने कहा कि ये मानसिक शक्ति को बढ़ाती है तो इसका मतलब आप इसकी मदद से तनाव मुक्त रहेंगे जो आपके Stamina को बढ़ाने में बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगा। मैं ऐसे कुछ आसान योगासन बताने जा रहा हूँ जो आपके stamina को boost करेंगे।

2. प्राणायाम –

वैसे तो मित्रों प्राणायाम करने के बहुत से तरीके हैं लेकिन मैं आपको बिल्कुल सरल तरीका बताता हूँ जो आपके स्टैमिना को increase करने में बहुत ही सहायक होगा।

आपको सबसे पहले किसी शांत और साफ़-सुथरे स्थान पर कम्बल के आसन पर बैठना है। इसके बाद आपको धीरे-धीरे लम्बी गहरी सांस लेनी है जो कि आपके पेट तक जाए, फिर कुछ क्षण रुकें (3-4 सेकंड) या क्षमता अनुसार। तत्पश्चात धीरे-धीरे सांस छोड़ दें। इससे आपका stamina तो बढ़ेगा ही साथ ही फेफड़े भी अति बलशाली बनेंगे।

3. ध्यान

जो मनुष्य अध्यात्म से जुड़े हैं उन्हें ध्यान का महत्व अच्छे से मालूम होगा। ध्यान करने से आपका शरीर और मन दोनों बहुत जल्दी relax होते हैं। नित्य सुबह-शाम ध्यान करने से आपका stamina बढ़ेगा। अध्ययन में पता चला है कि ध्यान आपके हृदय गति, श्वास और मस्तिष्क तरंगों में सुधार करता है। साथ ही यह आपके रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।

4. बुरी आदतें छोड़ें –

आजकल युवा देखा-देखी या showoff करने के चक्कर में बुरी आदतों को अपना लेते हैं जैसे सिगरेट पीना, शराब पीना या गुटखा खाना आदि।

बुरी आदतें छोड़ें

हमें इन सभी चीजों से दूर रहना है क्यूंकि ये चीजें हमारे शरीर और मस्तिष्क दोनों पर बुरा प्रभाव डालती हैं। अपने शरीर में stamina बढ़ाने के लिए हमें इन सभी बुरी आदतों को छोड़ना होगा और यहाँ तक की junk-food का सेवन करना भी बिल्कुल बंद कर दें।

5. पर्याप्त मात्रा में जल पियें –

पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से मेरा तातपर्य यह है कि अपने शरीर में dehydration न होने दें क्यूंकि इससे energy loss होती है जिससे stamina कम होता है।

वैसे तो दिन में 3 लीटर पानी अवश्य पीना चाहिए। कुछ शोध बताते हैं कि अपने वजन के अनुसार ही पानी पियें। आयुर्वेद के अनुसार हमें देश, काल और मौसम के अनुसार ही जितना अनिवार्य हो उतना ही जल पीना चाहिए। क्यूंकि इससे हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है और मांसपेशियों की थकान दूर होती है।

6. नींद की गुणवत्ता बढ़ाएं –

आप भी सोच रहे होंगे कि ये क्या लिखा है? नींद की गुणवत्ता बढ़ाएं, जी हां आपने अक्सर सुना होगा रात को 8 घंटे की नींद अनिवार्य है, ये बिल्कुल ठीक है परन्तु हमने quantity से ज्यादा quality पर ध्यान देना है।

चलिए confuse मत होइए, मैं बात कर रहा हूँ योग निद्रा की। योग निद्रा में आप अपने शरीर और मन को बहुत जल्दी थकान मुक्त कर सकते हैं। इससे हमारे शरीर को बहुत ऊर्जा मिलती और शरीर के defected cells भी बहुत जल्दी repair होते हैं।

7. तैराकी करें –

swimming एक ऐसा खेल है जिससे आप अपने stamina को कई गुना तक बढ़ा सकते हो क्यूंकि इसे करने से आपकी हृदय गति और श्वास पर नियंत्रण बढ़ेगा जो कि सहनशक्ति बढ़ाने के लिए बहुत आवश्यक है।

8. तेल मालिश –

जिस प्रकार तेल को लम्बे समय तक घड़े में रखने से घड़ा मजबूत हो जाता है, जैसे तेल के रगड़ने से दृढ़ चमड़ा मुलायम हो जाता है और जिस प्रकार तेल आदि लगाने से गाड़ी का धूरा मजबूत, कार्य करने में समर्थ और रगड़ सहने लायक हो जाता है; उसी प्रकार तेल की मालिश करने से शरीर दृढ़ हो जाता है, त्वचा सुन्दर हो जाती है, वायु की पीड़ा दूर हो जाती है और शरीर क्लेश तथा व्यायाम (शारीरिक श्रम) सहने में समर्थ हो जाता है। नित्य तेल मालिश करने से बुढ़ापा भी धीरे-धीरे आता है।

अब इन 8 तरीकों के बाद जानते हैं ऐसे कौनसे खाद्य-पदार्थ हैं जो हमारे stamina को बढ़ाते हैं

स्टैमिना बढ़ाने वाले खाद्य-पदार्थ

वैसे तो बहुत खाद्य-पदार्थ जिनकी मदद से हम अपने stamina को boost कर सकते हैं, परन्तु मैं आपको सिर्फ शाखाहारी food-ingredients ही बताऊंगा क्यूंकि मैं स्वयं शाखाहारी हूँ।

1. प्रोटीन –

ये हमारी शारीरिक कोशिकाओं के अति आवश्यक घटक (components) हैं, अतएव शारीरिक कमजोरी की पूर्ती और धातुओं (रक्त, मांस, मज्जा, शुक्र आदि) की वृद्धि के लिए अत्यंत आवश्यक हैं।

ये हमारे शरीर को 1. ऊर्जा प्रदान करता है। 2. enzymes का निर्माता है। 3. hormones का निर्माण करता है। 4. रोगप्रतिरोधक शक्ति (Immunity) का उत्पादक है, stamina को बढ़ाता(stamina kaise badhaye) है। इसी से anti-bodies का निर्माण होता है, जो रोगों से संक्रमण से हमारी रक्षा करते हैं।

प्रोटीन की प्राप्ति के सामान्यतः दो स्त्रोत हैं – 1. Vegetarian 2. Non-Vegetarian लेकिन मैंने पहले ही कहा है कि मैं सिर्फ Vegetarian ही बताऊंगा। जैसे जौं, गेहूँ, काजू, बादाम, पिस्ता और दाल आदि से प्राप्त होता है।

2. कार्बोहाइड्रेट्स –

इससे शरीर में उष्णता और शक्ति प्राप्त होती है और साथ ही stamina की भी वृद्धि होती है। शरीर से श्रम करने वालों को इसकी अधिक आवश्यकता होती है क्यूंकि इसका सेवन करने से ये स्नेह (oil) में रूपांतर होकर शरीर में संचय होता है।

प्राप्ति के स्त्रोत : ये केवल वनस्पतियों से प्राप्त होते हैं जैसे चावल, गेहूँ, साबूदाना, आलू, मीठे फल एवं मधु आदि में मुख्य द्रव्य carbohydrate ही होता है।

3. हल्दी वाला दूध –

हल्दी वाला दूध पीने से आपकी समान वायु (इसका स्थान नाभि क्षेत्र है) नियंत्रित होती है, जो आपके शरीर में गैस नहीं बनने देती। सांस जल्दी चढ़ना या दिल की धड़कन बढ़ जाना इसका मुख्य कारण पेट में गैस का होना भी होता है।

इसलिए आपको नित्य हल्दी वाला दूध चाहिए क्यूंकि ये आपकी मांसपेशियों को लचीला बनाता है और थकान को भी दूर करता है। इससे आपके शरीर में रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

4. विटामिन सी युक्त फल –

इनके प्रयोग से आपके शरीर की Immunity और Stamina दोनों बढ़ते (stamina kaise badhaye) हैं और शरीर की शक्ति में भी वृद्धि होती है, दांत सुदृढ़ रहते हैं। और ये आपको रक्तपित्त वर्ग भी बचाते हैं।

प्राप्ति के स्त्रोत : यह द्रव्य नारंगी, संतरा, अंगूर और आम इत्यादि जम्बीर वर्ग के फलों (Citrus Fruits) में पाया जाता है।

5. सूखे मेवे –

सूखे मेवे जैसे काजू, बादाम, किशमिश, पिस्ता, छुहारा आदि ऐसी चीजें हैं जो आपके शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में अति उपयोगी हैं क्यूंकि इनमें कई तरह के गुण मौजूद होते हैं जैसे प्रोटीन, कैल्शियम विटामिन E, B और अन्य कई पोषक तत्व पाए जाते हैं।

इनमें मौजूद magnese और zinc जैसे द्रव्य हमारी दिनभर की थकान को दूर करते हैं और शरीर में नई ऊर्जा का संचार करते हैं। जिससे हमारी बॉडी की सहनशक्ति बढ़ती है और मस्तिष्क भी तरो-ताजा होता है।

6. केला –

केले में पर्याप्त मात्रा में फाइबर और पोटैशियम मौजूद होता है जो हमारे दिल को स्वस्थ रखने में बहुत ही उपयोगी है। इसके साथ ही इसमें मौजूद carbohydrate हमारे शरीर में कमजोरी नहीं आने देता जिससे हमारा stamina बढ़ता है।

यदि आप भूखे हो तो केला खा लें। ये कुछ समय तक आपकी क्षुधा को शांत करने में मदद करेगा। और इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि ये 12 महीने आपको खाने को मिलेगा। आप सर्दी और गर्मी हर मौसम में इसका सेवन कर सकते हैं।

7. वसायुक्त भोजन लें –

हम जो खाना खाते हैं, वसा भी उसके आहार का एक भाग है। इससे शरीर में बल की वृद्धि होती है और सहनशीलता भी बढ़ती है। कार्बोहाइड्रेट्स की अपेक्षा वसा ढाई गुणा अधिक शक्ति उत्पन्न करता है। बस ध्यान रहे कि जो व्यक्ति शरीर से अधिक श्रम करते हैं वे इसका सेवन अधिक कर सकते हैं।

प्राप्ति के स्त्रोत : घी, मक्खन, तेल, बादाम, पिस्ता और अखरोट आदि की गिरी में स्नेह अधिक अंश में मिलता है।

8. मुनक्का –

मुनक्का हमारी श्वास नली से कफ को खत्म करता है जिससे सांस बहुत ही लम्बी और गहरी आती है। इसके सेवन से नींद की गुणवत्ता भी बढ़ती है और शारीरिक तथा मानसिक थकान भी दूर होती है। इसमें कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है, जो हड्डियों के लिए उपयोगी है।

इसके सेवन से शरीर में खून बढ़ता है और साथ ही यह हमारे स्टैमिना को बढ़ाने (stamina kaise badhaye) में बहुत की कारगर है।

सेवन की विधि : सर्दियों में 5 मुनक्का बीज निकालकर तवे पर सेकें और स्वादानुसार नमक लगाकर रात को सोने से पहले खाएं। गर्मियों में रात को 5 मुन्नके पानी में भिगो दें और सुबह दूध में उबालकर, दूध थोड़ा ठंडा होने पर इसका सेवन करें।

निष्कर्ष –

क्या आपने कभी इनमें से किसी भी घरेलु उपाय या आयुर्वेदिक दवा का प्रयोग किया है? यदि हाँ तो कमेंट में बताइये कि आपको इससे क्या लाभ हुआ। आप उपर्युक्त तरीकों से घर पर ही अपने stamina को बढ़ा (stamina kaise badhaye) सकते हैं। यदि फिर भी आपका स्टैमिना नहीं बढ़ रहा तो आप किसी अच्छे चिकित्सक से अपनी शरीर की जांच अवश्य कराएं। धन्यवाद।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न –

प्रश्न- Endurance और Stamina में क्या अंतर है?

उत्तर- Stamina का वास्तविक अर्थ सहनशक्ति है और Endurance का अर्थ है धैर्य। Stamina मतलब आप कितनी ज्यादा capacity में कितने लम्बे समय तक कार्य कर सकते हो। जबकि Endurance मतलब आप कितने ज्यादा समय तक किसी एक कार्य को कर सकते हो।

प्रश्न- Stamina बढ़ाने में कितना समय लगता है?

उत्तर- ये पूरी तरह आपकी मेहनत और लगन के ऊपर निर्भर करता है। आप यदि नित्य अभ्यास करेंगे और खान-पान अच्छा लेंगे तो निश्चित ही कम समय में अपना स्टैमिना बढ़ा लेंगे।


Spread the love

7 thoughts on “स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू उपाय | Stamina Badhane ke Upay”

  1. Pingback: शिलाजीत क्या है, प्रकार, फायदे, खुराक और साइड-इफ़ेक्ट | Shilajit Ke Fayde or Side Effects - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  2. Pingback: गर्मियों में इम्युनिटी (Immunity) बढ़ाने के 9 असरदार घरेलू उपाय | Immunity Badhane ke Upay - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  3. Pingback: डायबिटीज क्या है? लक्षण और इसे कण्ट्रोल में रखने के 13 घरेलू तरीके | Diabetes kya Hai or Iske Lakshan - घरेलू नुस्खे - चरक

  4. Pingback: बारिश के मौसम में क्या खाएं और क्या न खाएं | Monsoon me kya khaye or kya na khaye - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  5. Pingback: Constipation: पेट साफ़ करने के 9 घरेलू उपाय, कब्ज़ के कारण और लक्षण | Pet Saaf Kaise Kare - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  6. Pingback: मीराबाई चानू : ओलिंपिक सिल्वर मैडल विजेता, उनका पूरा डाइट प्लान (schedule) | India's Weightlifter Mirabai Chanu's Diet Plan in Hindi - घर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *