Thursday, January 20, 2022
Body Healthक्यों हो जाती है नाखूनों की जड़ में पस, जानिए इसका घरेलू...

क्यों हो जाती है नाखूनों की जड़ में पस, जानिए इसका घरेलू उपचार | Pus Under Fingernail Home Remedy in Hindi

क्यों हो जाती है नाखूनों की जड़ में पस, जानिए इसका घरेलू उपचार | Pus Under Fingernail Home Remedy in Hindi

नाखूनों की जड़ में पस हो जाना एक बहुत ही आम समस्या है। ज्यादातर ये सर्दियों के मौसम में त्वचा के रूखेपन के कारण होती है या ज्यादा देर तक पानी के सम्पर्क में रहने के कारण भी ये समस्या हो सकती है। बैक्टीरिया और फंगस की वजह से भी हैंगनेल की समस्या होती है। इसका जल्दी उपचार करना चाहिए नहीं तो दर्द और सूजन बढ़ जाती है और सहन करना मुश्किल हो जाता है। हम आपको कुछ ऐसे सरल घरेलू उपाय (Pus Under Fingernail Home Remedy in Hindi) बताएंगे जिससे 3 दिनों में ही नाखूनों की जड़ में पस की समस्या ठीक हो जायेगी।

बालतोड़ हो सकता है खतरनाक, उपाय जानने के लिए लिंक पर क्लिक करें

नाखून की जड़ में पस के कारण और लक्षण

बैक्टीरिया और फंगस के अलावा अन्य कई कारण हैं जिस वजह से फिंगर नेल के नीचे पस हो जाती है और इसके कुछ लक्षण भी हैं। आइये जानते हैं –

स. कारण लक्षण
1 ज्यादा समय तक पानी के सम्पर्क में रहने से सूजन और दर्द होना
2 ज्यादा टाइट जूते पहनने से पीले रंग का मवाद जमना
3 बैक्टीरिया और फंगस इन्फेक्शन से हाथ लगाने पर बहुत तेज दर्द होना
4 कई बार नाखून ज्यादा कट जाता है संक्रमित त्वचा में लालिमा आना
5 बार बार मुंह से नाखून काटने की वजह से इलाज न करने पर लकीरें पड़ना
6 केमिकल युक्त डिटर्जेंट या साबुन का प्रयोग करने से
7 रूखी त्वचा

नाखून के नीचे मवाद को ठीक करने के घरेलू उपाय (Pus Under Fingernail Home Remedy in Hindi)

कुछ सरल घरेलू उपाय जिन्हें करने से नाखून के नीचे पस की समस्या ठीक हो जाएगी –

दिन में 3 बार अपनी ऊँगली को जहाँ पस हुई है, उस स्थान को गुनगुने पानी में 10 से 15 मिनट तक डालें। यदि इन्फेक्शन बड़ा नहीं है तो 2-3 दिनों में ठीक हो जाएगा। 
इसमें जो पस जमा हो गयी उसे निकालने के लिए दबाव डालना चाहिए। दबाव डालने के लिए आप रुई पर तेल-हल्दी का मिश्रण लगा लें और उसे किसी सूती कपड़े की सहायता से अच्छी तरह कसकर संक्रमित स्थान पर बाँध दें। इससे दबाव पड़ने पर पस निकल जायेगी और आपको आराम आ जायेगा। 
मसूर, गेहूं, सेमर की छाल, बरियार का मूल और बर के पत्तों को पीसकर, बिना-घी तेल मिलाये संक्रमित स्थान पर लेप लगाना चाहिए। यह लेप जब सूख जाता है तब जमा पस बाहर निकल जाता है। 
किसी पेड़ या लता आदि की कोमल शाखाओं से एषणी शलाका (संक्रमित स्थान में डालकर पस निकलने वाला यंत्र) बनाये क्यूंकि ये धातु की शलाका से मृदु होता है और दर्द कम करता है। इसे नाखून के साइड में डालकर थोड़ी जगह बनाकर पस को बाहर निकाल देना चाहिए। इसके लिए आप किसी अपने साथी की मदद ले सकते हैं। 
उपर्युक्त प्रयोग के बाद आंवला, गूलर और बेर के पत्तों से बनाये हुए काढ़े से संक्रमित स्थान को धोना चाहिए। इससे उसका शोधन हो जाएगा और भविष्य में कभी ऐसा संक्रमण नहीं होगा। 
और अब आखिर में तिल का चूर्ण, हल्दी और मुलहठी का चूर्ण - इन सबको बराबर पीसकर, घी मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें और इसको शोधन किये हुए स्थान पर लगाएं। नाखून के साइड में पस का जमना हमेशा के लिए ठीक हो जायेगा। 

नाखून के संक्रमण को रोकने के लिए बचाव के तरीके

बचाव के लिए निम्नलिखित उपाय करें –

  • अपने नाखूनों को दांतों से न काटें
  • साफ़-सफाई का ध्यान रखें, बैक्टीरियल इन्फेक्शन न होने दें
  • त्वचा के रूखेपन को दूर करने के लिए नहाने के बाद थोड़ा तेल अवश्य लगाएं
  • नाखूनों को ज्यादा छोटा न काटें क्यूंकि कई बार उसके साथ ऊँगली का साथ वाला मांस भी कट जाता है और पस जम जाती है
  • ग्लव्स जरूर पहनें जब किसी केमिकल युक्त वस्तु का प्रयोग करें
  • जब पानी के सम्पर्क ज्यादा देर रहें तो उसके बाद तुरंत किसी साफ़ कपड़े से हाथों और पैरों पोंछे
  • अपनी सॉक्स को समय समय पर बदलें

चिकित्सक को कब दिखाएं

वैसे तो उपर्युक्त घरेलू उपायों द्वारा इसका इलाज संभव है लेकिन कई बार पस ज्यादा बढ़ जाती है तो स्वयं निकालनी मुश्किल हो जाती है। तो इसलिए इस स्थिति में चिकित्सक के पास जाएँ।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – कौनसे रंग की पस गंदी बदबू छोड़ती है?

उत्तर – पस को पूय कहते हैं। ये एक तरह का फ्लूइड है जो बैक्टीरिया और मृत कोशिकाओं की वजह से बनता है। पीले और हरे रंग की पस अधिक बदबूदार होती है।

इन्हें भी पढ़ें –

किन कारणों से होता है ब्लैक फंगस और क्या हैं इसके घरेलू उपचार

स्ट्रेच मार्क्स हटाने के जबरस्दस्त प्राकृतिक उपाय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

Latest article

More article

error: Content is protected !!