Monday, May 23, 2022
Body Healthलो बीपी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार | Low Blood Pressure...

लो बीपी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार | Low Blood Pressure Emergency Treatment at Home in Hindi

- Advertisement -

Low Blood Pressure Emergency Treatment at Home in Hindi लो बीपी के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

आजकल युवाओं को भी लो बीपी की समस्या होने लगी है क्यूंकि तनाव भरा जीवन और खाने-पीने की बुरी आदतें ही इसका सबसे बड़ा कारण हैं। ज्यादतर केसेस में हाई बीपी की समस्या होती है लेकिन निम्न रक्तचाप की समस्या से भी आज के समय में बहुत से लोग पीड़ित हैं। लो बीपी की समस्या ज्यादातर उन्हीं लोगों में देखी जाती है जो शारीरिक गतिविधि बिल्कुल नहीं करते या फिर अकेले अकेले रहते हैं, सारा दिन बैठे रहते हैं एवं सोये रहते हैं। तो इस लेख में आप जानेंगे लो बीपी को घर पर ही तुरंत ठीक करने के घरेलू (Low Blood Pressure Emergency Treatment at Home in Hindi) और आयुर्वेदिक उपचार।

जाने गर्दन में दर्द के पीछे के कारण और इसका आसान घरेलू उपचार 

Table of Contents

लो बीपी के लक्षण (Low bp Symptoms)

यदि आपको निम्नलिखित लक्षण महसूस होते हैं तो समझिये आप लो बीपी की समस्या से पीड़ित हैं।

लो बीपी के लक्षण

बीपी लो होने के नुकसान

नार्मल ब्लड प्रेशर 120/80 होना चाहिए और यदि बीपी 90/60 से नीचे चला जाता है तो निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं –

  • ब्रेन में इंजरी हो सकती है
  • हार्ट में भी नुकसान पहुंच सकता है
  • किडनी डैमेज हो सकती है
  • सुनाई देने में भी दिक्कत होती है
  • और जितने भी जरूरी अंग हैं, उन्हें नुकसान पहुंच सकता है

ब्लड प्रेशर लो के कारण

निम्नलिखित कारणों से लो बीपी की शिकायत होती है –

स.कारण
1 सारा दिन अकेले बैठे रहने से
2 शारीरिक गतिविधि न करने से
3 अल्कोहल का ज्यादा सेवन करना
4 शरीर में ऑक्सीजन की कमी से
5 हाइपोथायरायडिज्म एक बड़ा कारण है
6 पानी कम पीने के कारण
7 अत्यधिक खून बहने की वजह से
8 लम्बे समय से बीमार रहने से
9 पौष्टिक भोजन न करने से

ब्लड प्रेशर लो के घरेलू उपचार (Low Blood Pressure Emergency Treatment at Home in Hindi)

मुलेठी से होगा निम्न रक्तचाप तुरंत ठीक

लो बीपी की समस्या कोर्टिसोल लेवल के कम होने की वजह से भी होती है। इसलिए मुलेठी एक बहुत ही कारगर औषधि है जो कोर्टिसोल लेवल को बढ़ाती है और थकान एवं कमजोरी जैसी समस्या को दूर करती है। मुलेठी का प्रयोग इस प्रकार करें –

प्रयोग की विधि – मुलेठी का चूर्ण (1/2 चम्मच) को एक कप पानी में मिलाकर 10-15 मिनट तक उबाल लें। फिर इसे ठंडा होने के लिए रख दें और छानकर पी लें।

गाजर का रस करेगा लो बीपी का इमरजेंसी उपचार

गाजर में लगभग शरीर को तंदरुस्त रखने के सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इसमें पाए जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट्स शरीर की इम्युनिटी को तो बढ़ाते ही हैं, साथ ही खून की कमी, थकान, कमजोरी और बीपी लो जैसी समस्याओं को तुरंत ठीक करने का दम रखते हैं। लो बीपी में गाजर का जूस इस प्रकार पीएं –

गाजर का रस सेवन की विधि – 2-3 गाजरों का रस स्वयं निकालिये या अपने किसी सम्बन्धी को कहिये कि वो निकाल दे। मान लीजिये आधा गिलास रस निकला है, तो आपको उसमें आधा चम्मच ही शहद मिला लेना है और पी लेना है। इससे कुछ ही देर में बीपी नार्मल हो जाएगा। गाजर का मुरब्बा भी निम्न रक्तचाप में फायदेमंद है।

सूखी खांसी को जड़ से खत्म करने के चमत्कारी घरेलू नुस्खे 
किशमिश भी फायदेमंद लो बीपी में

भीगी हुई किशमिश जितनी वजन घटाने के लिए उपयोगी है, उतनी ही बीपी को नियंत्रित करने के लिए भी कारगर है। इसमें मौजूद कैल्शियम, फाइबर, पोटैशियम और अन्य पोषक तत्व शरीर में खून की कमी, थकान और मानसिक कमजोरी को दूर करने में लाभदायक हैं। लो बीपी को पूर्णतया ठीक करने के लिए इस प्रकार करें किशमिश का सेवन –

किशमिश कैसे खाएं – आधे गिलास में पानी में मुट्ठीभर किशमिश को अच्छे से साफ़ करके भिगो दें। 12 घंटे तक भीगा रहने दें और उसके बाद एक-एक किशमिश को अच्छे से चबा-चबाकर खाने से लो बीपी की समस्या जड़ से खत्म हो जाती है।

नमक वाला पानी भी करता है बीपी को नियंत्रित

शरीर में सोडियम की कमी होने के कारण भी लो बीपी की समस्या हो जाती है। इसके लिए आपको एक गिलास पानी में 1/4 चम्मच नमक मिलाना है और पी लेना है। इससे तुरंत बीपी अपने लेवल पर आ जाएगा और आप अच्छा महसूस करेंगे।

क्यों आजकल युवाओं में बढ़ रहा है हृदय रोगों का खतरा, जानिये कारण और कुछ सरल घरेलू उपाय  
मक्खन और मिश्री का प्रयोग जड़ से ठीक करेगा लो बीपी को

मक्खन दिल संबंधी सभी रोगों के लिए बहुत ही लाभकारी है और साथ ही इससे बवासीर और दस्त में भी आराम मिलता है। इसके साथ यदि इसका प्रयोग मिश्री के साथ किया जाए तो निम्न रक्तचाप को परमानेंट ठीक करने के लिए भी उपयोगी है। आइये जानते हैं कैसे सेवन करें –

सेवन का तरीका – घर का निकाला हुआ मक्खन लें 1/2 चम्मच और 1/2 ही धागे वाली मिश्री लें और इन्हें अच्छी तरह मिला लें। नित्य अपने आहार में इसे शामिल करें, चाहे तो रोटी के साथ या फिर ऐसे ही खा जाएँ। 1 महीने में ही लो बीपी की समस्या ठीक हो जायेगी।

लो ब्लड प्रेशर में क्या खाएं

पौष्टिक आहार के सेवन से लो ब्लड प्रेशर की समस्या दूर हो जाती है।

  • नारियल पानी का सेवन करें
  • ब्रोकोली, पालक, साघ और अन्य हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें
  • मक्खन जरूर खाएं
  • अंगूर, संतरा, नीम्बू का सेवन अवश्य करें
  • टमाटर पर काला नमक लगाकर खाएं
  • चाय और कॉफ़ी भी पी सकते हैं
  • तरबूज़, खीरा खाएं
  • आहार में फोलेट की मात्रा को बढ़ाएं
  • केले का सेवन भी अवश्य करें

लो बीपी के लिए योग

योगासन और प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने से आप लो बीपी की समस्या से छुटकारा पा सकते हो। आइये जानते हैं कौन-कौन से योग और प्राणायाम करने हैं –

  • ज्ञान मुद्रा लगाकर भस्त्रिका प्राणायाम करें
  • सूर्य नमस्कार अवश्य करें
  • सूर्यभेदी प्राणायाम करें
  • दो मिनट ताली बजाएं
  • खुलकर हंसे
  • विपरीतकरिणी आसन का अभ्यास करें

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – बीपी लो में कौन सा फल खाना चाहिए?

उत्तर – केला और अंगूर एवं तरबूज़ – ये फल लो बीपी में रामबाण का काम करते हैं। इनका सेवन अवश्य करें।

प्रश्न – लो ब्लड प्रेशर का आयुर्वेदिक उपचार?

उत्तर – अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन लो ब्लड प्रेशर को लेवल पर लाता है। परन्तु इसका सेवन किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से पूछकर ही करें।

प्रश्न – लो बीपी कितना होना चाहिए?

उत्तर – सामान्य रक्तचाप 120/80 होता है। लेकिन यदि 90/60 से नीचे चला जाए तो ये निम्न रक्तचाप की श्रेणी में आता है।

प्रश्न – लो बीपी में क्या नहीं खाना चाहिए?

उत्तर – शराब, तम्बाकू और अधिक मिर्च-मसाले का सेवन न करें। ज्यादा गर्म पदार्थों का सेवन करने से भी बचें।

टीबी रोग के कारण, लक्षण और आसान घरेलू उपाय 
- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article