Sunday, December 4, 2022
Body Healthउठते-बैठते समय होता है जोड़ों में दर्द तो करें ये घरेलू उपचार...

उठते-बैठते समय होता है जोड़ों में दर्द तो करें ये घरेलू उपचार | 7 Beneficial Joint Pain Home Remedies in Hindi

- Advertisement -

उठते-बैठते समय होता है जोड़ों में दर्द तो जानिये इसका घरेलू उपचार 7 Beneficial Joint Pain Home Remedies in Hindi

क्या आपको भी उठते-बैठते समय जोड़ों में दर्द होता है या टक-टक की आवाज़ आती है? अक्सर उम्र बढ़ने के साथ जोड़ों में दर्द की दिक्कत शुरू हो जाती है। लेकिन आजकल के समय में गलत जीवनशैली और दूषित खान-पान से भी इस रोग की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। लेकिन इसमें घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्यूंकि मैं आपको ऐसे चमत्कारी घरेलू उपाय बताऊंगा जिसकी मदद से जोड़ो में दर्द की तकलीफ छूमंतर हो जायेगी। लेकिन पहले जानेंगे जोड़ों में दर्द क्या है और इसका कारण।

चिकुनगुनिया में होने वाले जोड़ों के दर्द को ठीक करने के जबरदस्त घरेलू नुसखे

Table of Contents

जोड़ों में दर्द क्या है?

आयुर्वेद के अनुसार जोड़ों में दर्द की मुख्य वजह अपान वायु का कुपित होना है। ये मुख्यतः वात दोषों के अंतर्गत आता है। शरीर में अपान वायु के कुपित से जोड़ों में जो लिगामेंट होता है, वो सूखने लगता जिस वजह से वहां सूजन हो जाती है और दर्द होने लगता है। कई बार उठते-बैठते हुए जोड़ों में से टक-टक की आवाज़ भी आती है। ये ज्यादातर घुटनों और कूल्हों में होता है।

जोड़ों में दर्द के कारण

जोड़ों में दर्द का मुख्य कारण अपान वायु का कुपित होना है लेकिन इसके अन्य भी कई कारण हैं आइये जानते हैं –

स. कारण
1 यूरिक एसिड बढ़ने के कारण
2 किसी चोट लगने की वजह से
3 खान-पान में बदलाव से
4 उम्र बढ़ना भी एक प्रमुख कारण है
5 विटामिन डी की कमी
6 दिनभर बैठे रहना

जोड़ों में दर्द के लक्षण

जोड़ों का दर्द होने पर आप एक जगह 10-15 मिनट के लिए बैठ जाएँ तो उठने पर घुटने और कूल्हे में दर्द महसूस होना। सुबह उठते समय पहले कंधों, घुटनों को थोड़ा हिलाना और फिर बिस्तर से उठ पाना। जोड़ों में सूजन होना। उठते-बैठते समय घुटनों से टक-टक की आवाज़ आना। चलने-फिरने और भारतीय शौचालय में बैठने में दिक्क्त होना। पालथी लगाकर बैठने में मुश्किल होना।

जोड़ों के दर्द में अपनाइये ये चमत्कारी घरेलू उपचार (Joint Pain Home Remedies in Hindi)

आइये अब जानते हैं ऐसे चमत्कारी आयुर्वेदिक और घरेलू उपाय जो जोड़ों के दर्द को जड़ से खत्म करने का दम रखते हैं।

सोंठ और गुड़ करेगा जोड़ों के दर्द को दूर

सोंठ में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो किसी भी प्रकार की सूजन और दर्द को दूर करने में उपयोगी है। साथ ही पाचन के लिए और गैस सम्बन्धी बिमारियों को ठीक करने में लाभदायक है। आइये जानते हैं इसका प्रयोग करने का तरीका –

प्रयोग का तरीका – सोंठ – 20 gm, भूसी निकाला हुआ काला तिल – 80 gm, गुड़ – 40 gm – इन सबको कूट-पीसकर लड्डू बना लें। फिर इसे रोगी को 10-20 gm सुबह-शाम दूध के साथ सेवन कराना चाहिए। ये प्रयोग जोड़ों के दर्द (Joint Pain Home Remedies in Hindi) को ठीक करने में बहुत लाभदायक है।

लहसुन का ये प्रयोग करदेगा जोड़ों के दर्द को दूर

लहसुन वजन को नियंत्रित रखने के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित करता है। ये किसी भी प्रकार के वात सम्बन्धी रोग को शरीर में आने से रोकता है क्यूंकि इससे पाचन क्रिया अच्छी होती है और साथ ही ये खून को साफ़ करने में भी लाभकारी है। जोड़ों के दर्द में इसका प्रयोग इस तरह करें –

प्रयोग का तरीका – सूखे हुए, साफ़ किये गए, बिना छिलके के लहसुन 20 gm लेकर दस गुना क्षीरोदक (जिसमें 100 ml दूध और 100 ml पानी मिलाया गया हो) में पकाएं और जब केवल दूध बचा रहे तो उसको पीएं। यह दूध जोड़ों के दर्द और सूजन एवं हृदय रोग को ठीक करने में अत्यंत उपयोगी है।

जौ के आटे का हलवा बहुत उपयोगी है जोड़ों के दर्द में

जौ हमें कब्ज़ नहीं होने देती। इसके साथ ही यह पाचन क्रिया को बेहतर में बनाने में कार्य करती है। आपको जानकर ख़ुशी होगी कि हड्डियों और दांतों की मजबूती के लिए भी जौ अत्यंत लाभकारी है। आइये जानते हैं कैसे जोड़ों के दर्द में इसका प्रयोग करें –

प्रयोग कैसे करें – जौ के आटे को देसी घी में पकाकर हलवा तैयार कर लें। साथ ही इसमें थोड़ी-सी पीपर मिला लें और इसे मूली के रस के साथ रोगी को खिलाएं। वात सम्बन्धी सभी रोग नष्ट हो जाएंगे और हड्डियों में मजबूती आएगी।

अखरोट की गिरी भी जोड़ों के दर्द में उपयोगी

अखरोट डायबिटीज को नियंत्रित के साथ साथ हड्डियों को भी मजबूती प्रदान करता है क्यूंकि इसमें अल्फा लिनोलेनिक एसिड पाया जाता है। सर्दियों के दिनों में जोड़ों का दर्द बढ़ जाता है, इसलिए अखरोट का सेवन बहुत ही फायदेमंद है। डॉक्टर्स भी अखरोट खाने की सलाह देते हैं क्यूंकि ये वात को भी नियंत्रित रखता है।

प्रयोग – सुबह खाली पेट 3-4 अखरोट की गिरी खाने से जोड़ों के दर्द में काफी आराम मिलता है। गर्मियों के दिनों में 1-2 गिरी ही खाएं।

शिलाजीत भी है जोड़ों के दर्द को दूर करने में लाभकारी

आयुर्वेद में शिलाजीत को रसायन कहा गया है। इसमें कैल्शियम, mangnese, निकल और स्ट्रोंटियम पाया जाता है जोकि हड्डियों की कमजोरी को दूर करने के लिए बहुत ही उपयोगी तत्त्व हैं। यह आर्थराइटिस और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बिमारियों में राहत प्रदान करता है।

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज है जोड़ों के दर्द में अत्यंत फायदेमंद

नित्य सुबह उठकर स्ट्रेचिंग जरूर करें। इससे आपके शरीर में ब्लड फ्लो बढ़ेगा और साथ ही जो मांसपेशियों में जो स्टिफनेस आई है वह भी ढीली होती है और उनमें दर्द की शिकायत भी दूर होती है। अपनी गर्दन को क्लॉक-वाइज और एंटी-क्लॉक वाइज घुमाएं और इसके साथ कमर और घुटनों को भी घुमाएं। इससे जोड़ों में दर्द की समस्या ठीक हो जायेगी।

कनेर की पत्ती का लेप भी उपयोगी है जोड़ों के दर्द में

कनेर की पत्तियां उबालकर पीस लें और इसे तिल के तेल में मिलाकर जहाँ आपको दर्द और सूजन है वहां लेप करें। ये बहुत ही शानदार नुस्खा है जोड़ों के दर्द को ठीक (Joint Pain Home Remedies in Hindi) करने के लिए।

जोड़ों के दर्द में खान-पान कैसा होना चाहिए

जठराग्नि मंद होने की वजह से ही वात कुपित होता जिससे जोड़ों का दर्द होता है। इसलिए आपको स्निग्ध और उष्ण आहार का ही सेवन करना चाहिए जैसे –

  • अदरक का सेवन अवश्य करें या अदरक की चाय दिन में एक बार जरूर पीएं
  • अखरोट, काजू और बादाम जरूर खाएं
  • ब्रोकोली का सेवन भी जोड़ों के दर्द को दूर करने में उपयोगी है
  • कैल्शियम का सेवन भी अवश्य करें
  • सूर्य की रोशनी में कुछ देर जरूर बैठें। इससे विटामिन डी की कमी पूरी होती है और हड्डियों को ताकत मिलती है
  • जो लोग अंडा खाना पसंद करते हैं, वे अंडे का सेवन भी कर सकते हैं क्यूंकि इसके सफ़ेद हिस्से में कैल्शियम और पीले हिस्से में विटामिन डी होता है जो हड्डियों के लिए अत्यंत उपयोगी है
  • हरी-पत्तेदार सब्जियां जरूर खाएं
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड्स को अपने आहार में जरूर शामिल करें क्यूंकि ये हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद है
  • कोल्ड ड्रिंक्स, सोडा और शराब से दूर रहें
  • तली हुई और ज्यादा मिर्च-मसाले वाली चीजों का सेवन न करें
  • ज्यादा मीठा भी न खाएं

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – किस विटामिन की कमी से जोड़ो में दर्द होता है?

उत्तर – विटामिन डी, बी12 और कैल्शियम की कमी के कारण जॉइंट पेन की समस्या सबसे अधिक होती है। इसलिए अपने आहार में इन विटामिन्स को जरूर शामिल करें।

प्रश्न – जोड़ों के दर्द में दही खाना चाहिए या नहीं?

उत्तर – जोड़ों के दर्द में दही न ही खाएं तो बेहतर है। यदि फिर भी खाना चाहते हैं तो दोपहर के समय आधी कटोरी दही खा सकते हैं लेकिन इससे ज्यादा नहीं।

इन्हें भी पढ़ें –

कान में दर्द और सूजन के कारण और इसका घरेलू उपचार

पेट के अल्सर को जड़ से खत्म करने के आसान देसी नुस्खे

- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article