Sunday, October 2, 2022
Baby's Healthजानिए फैटी लीवर के कारण और जबरदस्त घरेलू उपचार | 7 Indian...

जानिए फैटी लीवर के कारण और जबरदस्त घरेलू उपचार | 7 Indian Home Remedies for Fatty Liver in Hindi

- Advertisement -

जानिए फैटी लीवर के कारण और जबरदस्त घरेलू उपचार Indian Home Remedies for Fatty Liver in Hindi

परमात्मा ने हमें सभी अंग एक से अधिक दिए हैं लेकिन लीवर एक ही दिया है। इसलिए इसका ख्याल रखना अधिक जरूरी हो जाता है क्यूंकि भोजन को हजम करना, टॉक्सिन्स को बाहर निकालना, संक्रमण से लड़ना आदि अन्य कई कार्य लीवर करता है।

भारत में फैटी लीवर की समस्या पिछले कुछ समय से अधिक बढ़ी है। बिना शराब पीये फैटी लीवर की समस्या 32% तक बढ़ी है। डायबिटीज और मोटे लोगों को ये समस्या ज्यादा होती है। लेकिन घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है क्यूंकि आगे लेख में हम आपको बढ़िया घरेलू उपाय बताएंगे जो फैटी लीवर के उपचार में मददगार हैं।

फैटी लीवर कितने प्रकार का होता है?

फैटी लीवर दो तरह के होते हैं –

  1. अल्कोहलिक – जैसे कि नाम से ही पता चल रहा कि इस प्रकार की समस्या अधिक शराब के सेवन करने से होती है। इसके लक्षणों में पीलिया, बुखार आदि
  2. नॉन-अलकोहलिक – ये अन्य कारणों से हो सकता है जैसे अधिक मोटापा होना, मधुमेह वाले रोगी को और ज्यादा मात्रा में जंक फ़ूड आदि का सेवन करने से

फैटी लीवर के लिए भारतीय घरेलू उपाय (Indian Home Remedies for Fatty Liver in Hindi )

फैटी लीवर की समस्या के लिए कुछ भारतीय घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं जो आपके फैटी लीवर के लक्षणों को कम करने में मदद करेंगे।

नीम्बू और संतरा

नीम्बू फैटी लीवर की समस्या को ठीक करने में रामबाण है क्यूंकि ये जमी हुई वसा को पिघला देता है। इसके अलावा संतरे का सेवन भी उपयोगी है। इन दोनों पदार्थों में ही विटामिन सी होता है जो लीवर के लिए उपयोगी है।

प्रयोग की विधि – एक गिलास गुनगुना पानी लें और उसमें एक नीम्बू निचोड़ लें और इसका सेवन करें। संतरे का जूस पी सकते हैं या संतरा खा भी सकते हैं।

नीम

पित्त के प्रकोप से भी फैटी लीवर की समस्या उत्पन्न होती है। नीम पित्त और कफ दोनों को संतुलन करता है। अध्ययनों से भी ये पता चला है कि नीम लीवर की रक्षा के प्रभावों को उजागर करता है और वसा जमने से रोकता है एवं लीवर के फंक्शन को बढ़ाता है।

प्रयोग की विधि – नीम के पत्तों की चाय बनाकर पीएं। इससे काफी लाभ मिलता है और फैटी लीवर के उपचार में बी ही मददगार होती है।

छाछ का सेवन फैटी लीवर में फायदेमंद है

छाछ का सेवन फैटी लीवर के उपचार मवन उपयोगी माना जाना जाता है। इसका सेवन दोपहर को भोजन के उपरान्त करें, इससे पेट में ठंडक पहुंचती है, भूख में वृद्धि होती है और पाचन दुरुस्त रहता है।

अलसी के बीज

अलसी कई औषधीय गुणों से भरपूर है। इसके अनेकों फायदे हैं जैसे ये वेट कम करने में मददगार है, ब्रेन की हेल्थ के लिए उपयोगी है और कब्ज़ से छुटकारा दिलाती है एवं पाचन शक्ति को बढ़ाती है। ये लीवर पर जमा होने वाली वसा को भी कम करती है।

प्रयोग की विधि – इसके बीजों को पहले तवे पर भून लें और उसके बाद इन्हें पीसकर पानी के साथ एक चम्मच सेवन करें। इसके अलावा सब्जी, दाल और सलाद पर भी इसका चूर्ण छिड़क कर सेवन कर सकते हैं।

जामुन खाएं फैटी लीवर की समस्या से छुटकारा पाएं

कहते हैं साल में एक बार जामुन अवश्य खाएं क्यूंकि कई बार गलती से इंसान बाल निगल जाता है और जामुन खाने से बाल पेट के अंदर ही गल जाता है। इसके अलावा फैटी लीवर के उपचार में भी जामुन खाने को उपयोगी बताया गया है। मुट्ठीभर पके हुए जामुन दिन में खाएं।

एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर न सिर्फ फैटी लीवर की समस्या को दूर करता है बल्कि लीवर में होने वाली सूजन को कम करने में भी उपयोगी है।

प्रयोग का तरीका – एक ग्लास गुनगुने पानी में 2 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं और इसे दिन में 2 बार पीएं। जिन्हें इसका टेस्ट अच्छा नहीं लगता तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं।

हल्दी

हल्दी में एंटी-ऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं और इसके अलावा हल्दी शरीर में फैट के absorption को कम कर देती है। 2 ग्लास पानी में 1/4 चम्मच हल्दी मिलाएं और इसे दिन में दो-तीन बार पीएं।

फैटी लीवर में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

भोजन आपकी सेहत पर बहुत ज्यादा असर करता है। इसलिए भोजन हमेशा ध्यानपूर्वक और हैल्थी ही करना चाहिए। अब जानिये फैटी लिवर में क्या खाये और क्या नहीं –

क्या खाएं

  • ताजे फल और सब्जियों का सलाद खाएं
  • अनाज और दालें फैटी लीवर में अच्छी रहती हैं
  • छाछ का सेवन करना चाहिए
  • दिन में थोड़ा-थोड़ा करके कई बार खाएं
  • व्यायाम अवश्य करें
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड्स रिच फूड्स का सेवन करें

क्या न खाएं

  • शराब का सेवन न करें
  • सफेद चीनी भी न खाएं
  • फ्राइड फूड्स और फैटी फूड्स न खाएं
  • ज्यादा नमक का सेवन न करें
  • सफेद ब्रेड, चावल और पास्ता न खाएं
  • रेड मीट का सेवन भी नहीं करना चाहिए
अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – क्या फैटी लीवर में चावल खा सकते हैं?

उत्तर – जी नहीं, फैटी लीवर में चावल नहीं खाने चाहिए। क्यूंकि ये हाई ग्लाइसेमिक फ़ूड में आता है जो शरीर में ब्लड शुगर को बढ़ा देता है।

प्रश्न – फैटी लीवर कितने दिनों में ठीक हो जाता है?

उत्तर – यदि अलकोहलिक फैटी लीवर की समस्या है तो शराब का सेवन बिल्कुल बंद कर दें। 1 महीने में ही फैटी लीवर की समसया ठीक हो जाएगी।

- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article