Sunday, December 4, 2022
Women's Healthमासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव को कम करने के घरेलू उपचार |...

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव को कम करने के घरेलू उपचार | 7 Best Home Remedies to Stop Heavy Bleeding During Periods Hindi

- Advertisement -

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव को कम करने के घरेलू उपचार 7 Best Home Remedies to Stop Heavy Bleeding During Periods Hindi

मासिक धर्म महिला के गर्भाशय की परत का मासिक बहाव है लेकिन कई बार मासिक धर्म में अनियमितता हो जाती है जोकि आहार-विहार में गड़बड़ी के कारण हो सकती है। ऐसे ही एक विकार की आज हम चर्चा करेंगे जो महिलाओं में बहुत सामान्य है, वो है अधिक रक्तस्त्राव का होना। मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव से रोजमर्रा के जीवन में कई परशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार अधिक रक्तस्त्राव होने से खून की कमी, थकान और चक्कर भी आ जाते हैं। इसलिए सही समय में इसका उपचार शुरू कर देना चाहिए तो आइये जानते हैं मासिक धर्म में ज्यादा रक्त बहने के (Home Remedies to Stop Heavy Bleeding During Periods Hindi) घरेलू उपचार।

पुरुषों के अंडकोषों में सूजन और दर्द का घरेलू उपचार जानने के लिए लिंक पर क्लिक करें

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव के कारण और लक्षण

आइये पहले जानते हैं अधिक रक्तस्त्राव के कारण और किन लक्षणों से ये पता चलता है कि हैवी ब्लीडिंग हो रही है –

स.कारण लक्षण
1हार्मोनल इम्बैलेंस सबसे बड़ा कारण हैजब आपको एक की बजाय दो सेनेटरी पैड्स लगाने की जरूरत पड़े
2अधिक तनाव लेने से 2.5 cm से बड़े क्लॉट्स निकलते हैं
3हाइपोथाइरोइडिस्म की वजह से 1 या 2 घंटे सेनेटरी पैड्स बदलने पड़ें
4बच्चेदानी में फ़िब्रोइड के कारण अधिक थकान और सांस फूलना
5आयुर्वेद के अनुसार पित्तवर्धक आहार का अधिक सेवन करने से 7 दिन से अधिक पीरियड्स का चलना
6गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब्स में इन्फेक्शन होना पेट के निचले हिस्से में दर्द होना
7खून पतला करने की या गर्भ निरोधक दवाइयों का अधिक सेवन करने से

मासिक धर्म में अधिक रक्तस्त्राव को कम करने के घरेलू उपचार (Home Remedies to Stop Heavy Bleeding During Periods Hindi)

आइये अब जानते हैं रक्तप्रदर के लिए चमत्कारी घरेलू नुस्खे (Home Remedies to Stop Heavy Bleeding During Periods Hindi) जो महिलाओं को पीरियड्स में दर्द और अधिक खून आने की समस्या से निजात दिलाएंगे।

धनिया

20 ग्राम धनिये को 200 ml पानी में औटाएं। जब पानी 50 ml रह जाए तब इसे अच्छे से छानकर महिला को पिला दें, इस प्रयोग से मासिक धर्म में अधिक रक्त गिरना बंद हो जाएगा।

सफ़ेद काशगरी और लाल गेरू

10 ग्राम सफ़ेद काशगरी व 1 ग्राम लाल गेरू दोनों को अच्छी तरह मिलाकर शीशी में भर लें। आवश्यकता पड़ने पर स्त्री को ये औषधि बताशे में भरकर खिलाएं और ऊपर से थोड़ा सा पानी पिला दें। यह अचूक औषधि है। 3 खुराक में ही लाभ मिलेगा।

मुलहठी और आंवला

मुलहठी, आंवला, हर्रा, बहेड़ा, लोध, नागरमोथा और शुद्ध फिटकरी – इन सभी का चूर्ण (1-1 ग्राम) की मात्रा में मधु मिलाकर सेवन करने से रक्तप्रदर रोग से छुटकारा मिलता है।

नागकेसर का चूर्ण

नागकेसर का चूर्ण (2 ग्राम) को पानी में या छाछ में मिलाकर पीड़िता को पीने के लिए दें। पहले दिन से असर दिखना शुरू हो जाएगा एवं ओवर ब्लीडिंग की समस्या से छुटकारा मिलेगा।

शीशम के पत्ते

शीशम के रक्त और श्वेत प्रदर दोनों के लिए बहुत उपयोगी हैं और साथ ही यह हर प्रकार के चरम रोगों को ठीक करने में भी प्रयोग किये जाते हैं। महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान आधी रक्तस्त्राव के लिए आपको शीशम के 15 पत्तों को लेकर अच्छे से धोना है, फिर थोड़ी-सी मिश्री और ये 15 पत्तों को मुंह में रखकर चबाना है। ये बहुत ही उपयोगी और प्रमाणित नुस्खा है।

भ्रामरी प्राणायाम

उपर्युक्त दवाओं के साथ-साथ आपको प्रणायाम भी अवश्य करना चाहिए क्यूंकि भ्रामरी, उद्गीथ प्राणायाम हर प्रकार के स्ट्रेस को दूर करते और होर्मोनेस को बैलेंस करते हैं, जिससे रक्तप्रदर की समस्या से निजात मिलती है।

अशोक की छाल

अशोक की छाल के गुणों के बारे में तो क्या ही कहना। ये बहुत ही उपयोगी औषधि है। महिलाओं की हर समस्या को दूर करने में ये फायदेमंद है जैसे कि रक्तप्रदर रोग को ठीक करने में ये अत्यंत फायदेमंद है और इसके साथ ही ये पाइल्स, leucorrhoea आदि को ठीक करने में भी इसे प्रयोग किया जाता है। रक्तप्रदर में अशोक की छाल (10-20 ग्राम) को कूटकर 100 ml दूध और 100 ml पानी में मिलाकर उबाल लें। जब केवल दूध रह जाए तो इसे कपड़छान करके पी लें।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – रक्त प्रदर में क्या खाना चाहिए?

उत्तर – हरी पत्तेदार सब्जियां, खट्टे फल, ओमेगा-3 फैटी एसिड्स से युक्त आहार और साथ ही ऐसे पदार्थ जिनमें मैग्नीशियम, आयरन की मात्रा अधिक हो क्यूंकि ये लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करते हैं और पीरियड्स से होने वाले दर्द में भी राहत प्रदान करते हैं।

प्रश्न – पीरियड्स रुकने का क्या कारण हो सकता है?

उत्तर – पीरियड्स रुकने का सबसे बड़ा कारण तो प्रेगनेंसी ही है। इसके अलावा अन्य कारण जो है वो है अधिक चिंता करना जिससे होर्मोनेस प्रभावित होते हैं और अधिक व्यायाम करने एवं डायबिटीज भी एक वजह है जिससे पीरियड्स रुक जाते हैं।

इन्हें भी पढ़ें –

पेट को अच्छे ढंग से साफ़ करने के जबरदस्त घरेलू उपचार

बच्चों में हकलाना और तुतलाना की समस्या को ठीक करने के आसान घरेलू उपचार

- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article