Thursday, January 20, 2022
Beautyसफेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला करने के लिए खाएं ये...

सफेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला करने के लिए खाएं ये फूड्स | 7 Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi

सफेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला करने के लिए खाएं ये फूड्स Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi

Contents hide
1 बालों के सफ़ेद होने के प्रमुख कारण

35 से 40 साल की उम्र में यदि बाल सफेद हो रहे हैं तो ये आम बात है। परन्तु यदि 15-20 साल की उम्र से ही बाल सफेद होना शुरू हो जाएँ तो स्वयं को अच्छा नहीं लगता। इससे आपकी पर्सनालिटी भी कम होती है और यार-दोस्त भी मजाक करते हैं। आजकल कम उम्र में बाल सफेद होने की समस्या बहुत अधिक बढ़ गयी है। इसका सबसे बड़ा कारण प्रदूषण और गलत खान-पान की आदते हैं।

अक्सर लोग बालों को काला करने के लिए केमिकल युक्त डाई का इस्तेमाल करने लगते हैं जो बचे हुए काले बालों को भी सफेद कर देती है। इसलिए इस लेख में आपके लिए ऐसे जबरदस्त घरेलू उपाय (Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi) है और साथ ही ऐसे फ़ूड आइटम्स भी बताए हैं जिनका प्रयोग करने से आपके बाल प्राकृतिक रूप से काले होने शुरू हो जाएंगे।

बालों को झड़ने से रोकने और उनकी ग्रोथ बढ़ाने के लिए डेली रूटीन जानने के लिए क्लिक करें इस लिंक पर

बालों के सफ़ेद होने के प्रमुख कारण

खाने में पोषक तत्वों की कमी और प्रदूषण आज के समय में सबसे बड़ा कारण हैं सफेद बालों का। लेकिन इसके अलावा अन्य कई कारण हैं। आइये जानते हैं –

बालों के सफ़ेद होने के प्रमुख कारण

सफ़ेद बालों को काला करने के चमत्कारी घरेलू तरीके (Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi)

जो तरीके मैं बताने जा रहा हूँ ये आपके सफ़ेद बालों को जड़ से काला करेंगे लेकिन कुछ समय के प्रयोग के बाद क्यूंकि ये प्राकृतिक उपाय (Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi) हैं इनमें समय लगता है। आइये जानते हैं –

मेहँदी और इंडिगो पाउडर से सफेद बाल होंगे काले

आप जानते ही होंगे कि हरी मेहंदी हमारे मस्तिष्क के लिए भी बहुत उपयोगी है। ये तनाव को दूर करके दिमाग को ठंडा रखती है और साथ ही बालों के लिए तो उपयोगी है ही। बस इसमें हमें मिलाना है इंडिको पाउडर जिससे आपके बाल लाल होने की बजाय काले होंगे।

प्रयोग का तरीका – अपने बालों की लेंथ के हिसाब से बराबर मात्रा में नील पत्ती का पाउडर और हरी मेहँदी मिला लें और पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने बालों पर 1 घंटे तक लगाएं और फिर किसी अच्छे आयुर्वेदिक शैम्पू से बाल धो लें। बाल काले तो होंगे ही साथ ही घने, लम्बे और मजबूत भी होंगे।

आंवले का चूर्ण और चाय पत्ती का पानी भी है बालों को काला करने में लाभकारी

आयुर्वेद में आंवले के चूर्ण को बालों के लिए बहुत ही उपयोगी माना गया है। इसके साथ-साथ ये नपुंसकता को दूर करने में भी अत्यंत लाभकारी है। इसके खाने का और बालों में लगाने के दो अलग चूर्ण आते हैं। दोनों का प्रयोग किस तरह करना है आइये जानते हैं।

प्रयोग का तरीका – आंवले का चूर्ण बालों में लगाने वाला लें (अपने बालों की लम्बाई और घनत्व के हिसाब से ही लें), इसमें चाय पत्ती का पानी मिलाकर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को बालों पर लगाएं। इससे बाल जड़ से काले हो जाते हैं। दूसरा प्रयोग इस प्रकार है – 6 gm आंवले का चूर्ण खाने वाला गाय के दूध के साथ सेवन करें। ये दोनों प्रयोग करने से आपके सफ़ेद बालों की समस्या समाप्त हो जायेगी। इसके साथ चेहरे की कांति और तेज भी बढ़ेगा।

नारियल का छिलका बालों को काला करने में है उपयोगी

नारियल के छिलके में फाइबर की मात्रा प्रचुर होती है। इसके छिलके को जलाकर जो राख बनती उसे यदि मट्ठे में मिलाकर खाया जाए तो बवासीर रोग से मुक्ति मिलती है और इसी राख द्वारा बनाई गयी डाई का प्रयोग (Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi) करने से सफ़ेद बालों से छुटकारा मिलता है। आइये जानते हैं कैसे बनाये डाई –

डाई बनाने का तरीका – 1 नारियल के छिलके लेकर लोहे की कढ़ाई में डालकर धीमी आंच पर जलाएं। कुछ समय बाद काली राख सी बन जायेगी। फिर इस राख को शीशी में बंद करके रख दें। जब भी बालों में लगाना हो तो आधा चम्मच राख में 1 चम्मच सरसों का तेल मिलाकर रुई की मदद से बालों पर लगाएं। एक घंटे बाद शैम्पू कर लें। 15 दिन में 1 बार इसका प्रयोग करने से बाल जड़ से काले होने लगते हैं।

माषपर्णी की जड़ का चूर्ण करेगा सफ़ेद बालों को काला

माषपर्णी की जड़ का चूर्ण दस्त को रोकने और बुखार को ठीक करने में भी उपयोगी होता है। ये पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए फायदेमंद है। बालों को काला करने के लिए इसका प्रयोग इस तरह करें –

प्रयोग का तरीका – मेहँदी, केसरिया, पहाड़ी, चमेली और माषपर्णी की जड़ का चूर्ण सिर पर मलकर नहाने से सिर के सफेद बाल जड़ से काले हो जाते हैं। इन्हीं से बनाये गए तेल का प्रयोग करने से भी बाल काले होते हैं।

शिकाकाई और दही का मास्क सफ़ेद बालों को करेगा जड़ से काला

शिकाकाई एंटी-ऑक्सीडेंट्स, विटामिन A, C और k से भरपूर है जो बालों के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी हैं। इसके पाउडर का प्रयोग बालों की ग्रोथ के साथ बालों को घना और काला करने के लिए भी किया जाता है। आइये जानते हैं –

प्रयोग कैसे करें – बालों की लम्बाई और घनत्व के अनुसार शिकाकाई पाउडर लें या आप साबुत शिकाकाई लेकर स्वयं उसे पीसकर भी चूर्ण बना सकते हैं। इस चूर्ण को दही के साथ मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें और 1 से 2 घंटे तक पड़ा रहने दें। तत्पश्चात इसे बालों पर 1 घंटे के लिए लगाएं और बाद में किसी अच्छे आयुर्वेदिक शैम्पू से बाल धो लें। हफ्ते में दो बार प्रयोग करने से बाल काले होने शुरू हो जाएंगे।

लाल प्याज और नीम्बू का मिश्रण बालों को काला करने में है उपयोगी

प्याज में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं और साथ ही इसमें सल्फर भी प्रचुर मात्रा में होता है। इसे नए बालों को उगाने के लिए भी सदियों से प्रयोग किया जाता रहा है और बालों को काला करने में भी इसका उपयोग किया जाता है। आइये जानते हैं प्रयोग का तरीका –

प्रयोग का तरीका – 1 प्याज का रस और 1 नीम्बू का रस दोनों को अच्छे से मिक्स कर लें और नहाने से 1 घंटा पहले बालों और स्कैल्प पर अच्छे से मलें। इसके बाल रीठे के पानी से बालों को धो लें। हफ्ते में दो बार इसका प्रयोग (Home Remedies for Premature Greying Hair in Hindi) करने से बालों में चमक भी बढ़ेगी और काले भी होंगे।

योग का रोल भी महत्वपूर्ण है बालों को काला करने में

यदि आप नियमित रूप से शीर्षासन करते हैं तो आपको बालों सम्बन्धी कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा क्यूंकि इससे स्कैल्प में ब्लड फ्लो उचित मात्रा में होगा। इसके साथ ही आप अनुलोम-विलोम और कपालभाति का अभ्यास भी करें। यकीन माने बालों, आँखों और चेहरे भी पिम्पल्स होना ये सभी समस्याएं छूमंतर हो जाएंगी।

सफेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला करने के लिए खाएं ये फूड्स

आहार का हमारे बालों की ग्रोथ और उन्हें काला बनाये रखने में बहुत अहम रोल है। इसलिए अब जानते हैं ऐसे फूड्स जिनके सेवन से बालों को काला करने में मदद मिलेगी।

  • हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं क्यूंकि इनमें आयरन और विटामिन इ होता है जो रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाता है, जिससे बालों को पोषण मिलता है।
  • मशरुम में कॉपर और प्रोटीन मोजूद होता है। ये मेलेनिन के उत्पादन को बढ़ाता है जिससे बालों का सफेद होना रुकता है और बाल काले होते हैं।
  • ब्रोकोली में बहुत से विटामिन्स हैं जो बालों को काला करने में उपयोगी हैं।
  • स्ट्रॉबेरी का सेवन भी अवश्य करें। ये एंटी-एजिंग तो है ही साथ ही बालों को सफेद होने से भी रोकती है।
  • आंवला विटामिन सी में तो सबसे आगे है ही साथ ही इसमें विटामिन इ और एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी होते हैं जो बालों की ग्रोथ के लिए और उन्हें लम्बे समय तक काला बनाये रखने में उपयोगी है।
  • दालों का सेवन करने से बालों के रोम कूपों में कोलेजेन की मात्रा बढ़ती लगती है और बालों स्वस्थ रहते हैं।
  • अखरोट, बादाम, काजू आदि नट्स में कॉपर और अन्य विटामिन्स भरपूर मात्रा में होते हैं एवं ये बालों को काला बनाये रखने में अत्यंत उपयोगी हैं।
  • अण्डों में विटामिन बी12 की अच्छी मात्रा होती है जो बालों को काला बनाये रखने में सबसे महत्वपूर्ण है।
  • देसी गाय के दूध का मक्खन खाने से भी बाल काले होते हैं और चमकदार भी।

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – किन विटामिन्स की कमी से बाल सफ़ेद होते हैं?

उत्तर – यदि आपके शरीर में जिंक, कॉपर, मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन इ, डी और बी12 की कमी है तो आपके बालों के सफेद होने के चान्सेस बढ़ जाते हैं।

प्रश्न – बालों को काला करने का कौनसा आयल है?

उत्तर – भृंगराज तेल को यदि रोजाना लगाया जाए तो बाल जड़ से काले हो जाते हैं।

प्रश्न – क्या सफ़ेद बालों को फिर से काला किया जा सकता है?

उत्तर – जी बिल्कुल, बहुत से घरेलू उपाय हैं जिनसे सफ़ेद बालों को काला किया जा सकता है। पहले बालों के सफेद होने का कारण जानिये और फिर उसका उपचार करके बालों को काला किया जा सकता है।

इन्हें भी पढ़ें –

आँखों के नीचे पड़े डार्क सर्कल्स को जड़ से खत्म करने के घरेलू नुस्खे

इन आसान घरेलू उपायों से पाएं डार्क अंडरआर्म्स से छुटकारा

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

Latest article

More article

error: Content is protected !!