Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

क्या पोषक तत्वों की कमी से फटती हैं एड़ियां? जानिए कारण और घरेलू उपचार | 5 Amazing Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

Spread the love

क्या पोषक तत्वों की कमी से फटती हैं एड़ियां? जानिए कारण और घरेलू उपचार | 7 Amazing Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

एड़ियां फटने की समस्या बहुत ही आम है। ज्यादातर सर्दियों के मौसम में ये समस्या अधिक होती है क्यूंकि शुष्क हवाएं हाथ, पैर और होंठ आदि को नुकसान पहुंचाती हैं। महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा एड़ियां अधिक फटती हैं क्यूंकि उनकी त्वचा कोमल होती है। ये एक ऐसी समस्या है जिसे गंभीरता से नहीं लिया जाता और एड़ियों के अधिक फटने पर बाद में चलना भी मुश्किल हो जाता है। इसलिए आयुर्वेद में स्पष्ट कहा गया है कि किसी भी रोग और दुश्मन को छोटा न समझें।

इस लेख में मैं सिर्फ उपचार नहीं बताऊंगा बल्कि एड़ियां फटने के कारण, इसकी जटिलता, इसमें कैसा खान-पान रखना चाहिए और कब चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए? आइये पहले जानते हैं एड़ियां क्यों फटती हैं मायने इसके कारण क्या हैं ?-

झाइयां होने पर महिलाएं हो जाती हैं अत्यंत परेशान। जानिये इसका चमत्कारी घरेलू उपचार

Table of Contents

एड़ियां फटने के कारण (Causes of Cracked Heels)

आयुर्वेद के अनुसार शरीर में वायु की वृद्धि होने से देह रूक्ष हो जाती है जिससे हाथ-पैर में खुश्की होती है और बाद में उनमें क्रैक्स आने लगते हैं। एड़ियों में क्रैक्स इसलिए भी ज्यादा आते हैं क्यूंकि वहां की त्वचा थोड़ी मोटी होती है और हमारे शरीर का सारा भार भी झेलती हैं।

स.कारण
1चप्पल और सैंडल पहनने से या नंगे पैर घूमने की वजह से
2मधुमेह या लेप्रोसी रोग के कारण त्वचा रूखी हो जाती जिससे एड़ियां फट जाती हैं
3कैल्शियम और अन्य पोषक तत्वों की कमी के कारण
4पैरों की साफ-सफाई का ध्यान न रखना
5अधिक रूक्ष पदार्थों का सेवन करना
6ज्यादा गर्म पानी से स्नान करना
7फंगल इन्फेक्शन के कारण
8पानी कम पीने की वजह से
9ज्यादा हार्ड साबुन का प्रयोग और उसके बाद तेल भी न लगाना

फ़टी एड़ियों के लक्षण

देखने में तो आपको एड़ियों में क्रैक्स ही दिखेंगे लेकिन कई बार इसमें कुछ जटिलताएं हो जाती हैं। उस स्थिति में आपको सावधान होने की जरूरत है –

जटिलताएं (Complications)

  • क्रैक्स ज्यादा गहरे हो जाते हैं और उनमें से खून भी आने लगता है
  • चलने-फिरने में दिक्क्त होती है और कई बार तो पैर जमीन पर रखने में भी दर्द होता है
  • कई बार इनमें इन्फेक्शन हो जाता है

फ़टी एड़ियों को ठीक करने के घरेलू उपचार (Home Remedies for Cracked Heels in Hindi)

उम्र बढ़ने के साथ और सर्दियों में शरीर में रूखापन अधिक बढ़ता है और एड़ियां, होंठ आदि फटने की भी शिकायत शुरू हो जाती है। इनके लिए हमें निम्नलिखित घरेलू उपायों का प्रयोग करना चाहिए –

देसी मोम से ठीक होंगी फ़टी एड़ियां

मधुमक्खी के छत्ते से निकलने वाला मोम हमारी एड़ियों के लिए बहुत ही उपयोगी है। आप जानकर हैरान होंगे कि इससे बालों का झड़ना भी रोका जा सकता है। लेकिन एड़ियों को ठीक करने के लिए इसका प्रयोग इस तरह करें –

प्रयोग का तरीका – देसी मोम (50 gm), सरसों का तेल (100 gm), कपूर (10 gm) – सरसों के तेल को पैन में रखकर गर्म करें और इसमें देसी मोम और पीसी हुई कपूर मिला दें। फिर इसे अपनी फ़टी एड़ियों पर अच्छे से लगा लें। कुछ ही दिनों के प्रयोग से क्रैकेड हील्स की समस्या ठीक हो जायेगी।

मक्खन से ठीक होगी क्रैक्ड हील्स

मक्खन खाने में जितना स्वादिष्ट लगता है उतना ही वो त्वचा को कांतिमय बनाने में भी उपयोगी है। क्यूंकि ये वात-पित्त को भी संतुलित रखता है इसलिए इसका उपयोग त्वचा सम्बन्धी रोगों में और भी उपयोगी हो जाता है। रूखी-सूखी त्वचा को नमी प्रदान करता है और कोमल बनाता है। इसका प्रयोग फ़टी एड़ियों को ठीक करने में इस प्रकार करें –

प्रयोग कैसे करें – 50 gm गाय के दूध की दही का मक्खन लें और इसमें 10 gm सेंधा नमक पीसकर मिला दें एवं इसे किसी डिब्बी में रख दें। सुबह-शाम अपने पांवों की एड़ियों को नमक वाले गुनगुने पानी में डालकर रखें और इन्हें अच्छी तरह पोंछने के बाद इस मक्खन को अच्छे से एड़ियों पर लगाएं और मसलें, इसके बाद सूती जुराबें पहन लें। 1 हफ्ते के नियमित प्रयोग से क्रैक्ड हील्स बिल्कुल ठीक हो जाएंगी।

चावल के आटे और शहद से करें फ़टी एड़ियों का उपचार

शहद में त्वचा को नमी और स्मूथ करने के सभी गुण मौजूद होते हैं। इसके साथ चावल के आटे का प्रयोग स्किन को साफ़ करने में बहुत ही उपयोगी होता है। क्रैक्ड हील्स को रिपेयर करने में इन दोनों का प्रयोग इस तरह करें –

प्रयोग का तरीका – चावल का आटा (2 चम्मच), शहद (1 चम्मच), नीम्बू का रस (1 चम्मच) – इन तीनों को अच्छे से मिक्स करके पेस्ट बना लें और फ़टी एड़ियों पर लगाएं। 15 दिनों के नियमित प्रयोग से क्रैक्ड हील्स ठीक हो जाएंगी।

अमलतास और हल्दी का प्रयोग भरेगा फ़टी एड़ियों को

अमलतास के पत्तों का प्रयोग चरम रोगों को ठीक करने के लिए सदियों से किया आता रहा है। फ़टी एड़ियों में इसका प्रयोग हम हल्दी और नीम के साथ करेंगे क्यूंकि ये दोनों चीजें त्वचा के लिए अत्यंत लाभकारी हैं।

प्रयोग का तरीका – मुट्ठीभर अमलतास और नीम के पत्ते लें और इसे ग्राइंडर में पीस लें। इसके बाद इसमें 2 चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं और इतना एलोवेरा जेल मिलाएं कि अच्छा सा पेस्ट बन जाए। फिर इस पेस्ट को फ़टी एड़ियों पर लगाएं और 1 घंटे बाद गुनगुने पानी से धो लें। हफ्ते में 3 बार इसका प्रयोग करें, गजब का लाभ होगा।

ग्लिसरीन और गुलाब जल का मिश्रण करेगा क्रैक्ड हील्स को ठीक

1/2 चम्मच ग्लिसरीन और 1 चम्मच गुलाब जल दोनों को अच्छे से मिक्स कर लें और इस मिश्रण को फ़टी एड़ियों पर लगाएं। 30 मिनट तक लगा रहने के बाद गुनगुने पानी से पैरों को धो लें। 15 दिन नियमित प्रयोग करने से आपको निश्चित ही लाभ मिलेगा।

क्रैक्ड हील्स में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

अपनी दिनचर्या में निम्नलिखित बातों पर यदि आप ध्यान देंगे तो एड़ियां फटने की दिक्कत नहीं होगी और यदि किसी कारणवश हो भी जाती है तो बिना किसी दवा के ठीक हो जाएंगी।

  • अपने पैरों को ढक कर रखें
  • सैंडल और चप्पल की बजाय जूते पहनें
  • हार्ड साबुन और डिटर्जेंट के सम्पर्क में कम से कम आएं
  • नहाने के बाद तेल या कोई पेट्रोलियम जेली लगाकर जुराबें पहन लें
  • डॉक्टर टेप भी मॉइस्चराइज़ करता है, आप उसे भी एड़ियों पर बाँध सकते हो
  • नंगे पैर न चलें
  • पैरों की साफ-सफाई का पूर्णरूप से ध्यान रखें

फ़टी एड़ियां होने में कैसा खान-पान रखना चाहिए

आयुर्वेद में हर समस्या की जड़ वात-पित्त-कफ का संतुलन बिगड़ने को माना जाता है। फ़टी एड़ियों में भी वायु के शरीर में अधिक होने से शरीर रूक्ष हो जाता है और हाथ-पैर एवं होंठ आदि फटने लगते हैं। इसलिए हमें वायु बढ़ाने वाले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

  • चाय-कॉफी का सेवन न करें
  • ज्यादा मीठा न खाएं खासकर सफेद चीनी
  • रूक्ष पदार्थों का सेवन न करें
  • पानी पर्याप्त मात्रा में पीएं
  • लस्सी जरूर पीएं परन्तु ध्यान दें कि लस्सी खट्टी न हो
  • मक्खन और गाय के घी का सेवन अवश्य करें
  • ज्यादा मिर्च-मसाले युक्त भोजन भी न खाएं

फ़टी एड़ियों के लिए कौनसी क्रीम बेस्ट है

फ़टी एड़ियों के लिए यूरिया युक्त क्रीम ही ज्यादा फायदेमंद होती हैं। इनमें 25 से 40 परसेंट तक यूरिया होता है। इन्हें क्रैक्ड हील्स पर लगाने से जल्दी आराम मिलना शुरू हो जाता है। मैं आपको तीन क्रीम के नाम बता देता हूँ, आपको जो अच्छी लगे आप खरीद कर लगा सकते हो।

  • Ranbaxy Labs की Moisturex
  • FDC कंपनी की Cotaryl
  • Galderma कमपनी की Efaderm

इन तीनों में से कोई भी एक क्रीम आप केमिस्ट की दुकान से खरीद सकते हैं। इन्हें रात सोने से पहले और सुबह नहाने के बाद लगाना चाहिए। 15 दिनों के लगातार प्रयोग से फ़टी एड़ियों में आपको फर्क दिखना शुरू हो जाएगा।

कुछ सामन्य प्रश्नोत्तर

प्रश्न – क्या वैसलीन क्रैक्ड हील्स में उपयोगी है?

उत्तर – जी हाँ यदि आप वैसलीन को रातभर अपनी फ़टी एड़ियों पर लगाकर और पैरों में मोज़े पहनकर सोते हैं तो इससे आपकी बिवाई में काफी आराम मिलेगा।

प्रश्न – गर्मियों में एड़ियां फटने पर क्या उपाय करें?

उत्तर – पानी को हल्का गुनगुना करें और उसमें सेंधा नमक मिलकर अपने पैरों को उसमें डाल दें। फिर 15 मिनट बाद पैरों को अच्छे से पोंछकर फ़टी एड़ियों पर गाय का घी लगाएं। ऐसा कुछ दिन करने से लाभ मिलेगा।

इन्हें भी पढ़ें –

स्किन अलेर्जी, त्वचा पर छपाकि निकलने का जबरदस्त घरेलू उपचार

सिर में खुजली और डैंड्रफ की समस्या से हैं परेशान तो आपके लिए हैं ये आसान देसी नुस्खे


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!