Saturday, May 28, 2022
Body Healthडायबिटीज क्या है, इसके लक्षण और 13 घरेलू उपाय | Diabetes Home...

डायबिटीज क्या है, इसके लक्षण और 13 घरेलू उपाय | Diabetes Home Remedies in Hindi

- Advertisement -

Diabetes Home Remedies in Hindi डायबिटीज क्या है, इसके लक्षण और घरेलू उपाय

आज से 15-20 साल पहले भारत में डायबिटीज नामक बीमारी बहुत कम सुनने को मिलती थी। परन्तु आज के समय ये रोग छोटे बच्चों में भी देखने को मिलते हैं, ये वाक्य में चिंताजनक है। इसका मुख्य कारण तो गलत खान-पान और शारीरक श्रम न करना ही है। डायबिटीज को समझने से पहले हमें अपने शरीर को समझना होगा। हमारे cells भी गाड़ी की तरह होते हैं, चलने के लिए उन्हें ईंधन की जरूरत होती है और हमारे cells का ईंधन है ग्लूकोस। ग्लूकोस हमारे cells को एनर्जी देता है और इसी एनर्जी के कारण हम दिन-भर कार्य कर पाते हैं।

ग्लूकोस एक प्रकार की शुगर ही है जो हमारे cells को बहुत पसंद आता है। जैसे किसी गाड़ी में हवा भरने के लिए पम्प की जरूरत पड़ती है वैसे ही ग्लूकोस को cells तक पहुंचाने के लिए इन्सुलिन की आवश्यकता पड़ती है। इन्सुलिन एक प्रकार का हॉर्मोन जो हमारे शरीर में ग्लूकोस की मात्रा को regulate करता है।

डायबिटीज क्या है?

डायबिटीज जिसे मधुमेह के नाम से भी जाना जाता है। इस स्थिति में अग्नाशय द्वारा बनाया गया एक हॉर्मोन, खाने से ग्लूकोस को आपके सेल्स में ऊर्जा प्रदान करने में सहायता करता है। जब कभी हमारा शरीर पर्याप्त इन्सुलिन नहीं बनाता या इन्सुलिन का अच्छे तरीके से प्रयोग नहीं करता, तब ग्लूकोस का अधिक देर तक रक्त में रहना और cells तक न पहुंचना मधुमेह को जन्म देता है।

डायबिटीज के लक्षण

  • Polydipsia – प्यास का ज्यादा लगना
  • Polyuria – रात के समय बार-बार पेशाब का आना
  • Polyphagia – इसमें खाना ज्यादा खाने की चाहत होती है
  • हमेशा थकान बनी रहना
  • आँखों के सामने धुंदला दिखाई या कम दिखाई देना
  • अचानक वजन का कम हो जाना, बिना किसी कारण के
  • घाव का जल्दी न भरना

13 घरेलू उपचार जो डायबिटीज को कण्ट्रोल करेंगे (Diabetes Home Remedies in Hindi)

वैसे तो अभी तक मधुमेह की कोई दवाई नहीं बनी है। जो भी दवा दी जाती है, वह इन्सुलिन को कण्ट्रोल करने के लिए ही दी जाती है। लेकिन हम कुछ ऐसे घरेलू उपचार बताएंगे जिनकी सहायता से आप घर पर ही डायबिटीज को नियंत्रित कर सकेंगे।

1. दालचीनी –

वैसे तो दालचीनी एक मसाला है लेकिन इसके अंदर magnese, iron और fibre भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। साथ ही इसमें फैटी एसिड और एमिनो एसिड भी होते है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखते हैं साथ ही इन्सुलिन को भी कण्ट्रोल करते हैं। इसे दूध, चाय में आप चीनी के स्थान पर 1 चुटकी मिलाकर पी सकते हैं, इससे डायबिटीज नियंत्रित होगी।

2. नट्स या अखरोट –

अखरोट में विटामिन E की मात्रा काफी अच्छी होती जो थकान को दूर करने में हमारी मदद करती है। इसमें कार्ब्स की मात्रा कम होने के कारण यह ब्लड शुगर लेवल को कण्ट्रोल करने में सहायक है। साथ ही यह शरीर के weight पर भी कोई असर नहीं डालता।

3. बीन्स –

बीन्स में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फाइबर होता है, जिससे हमारी डायबिटीज कण्ट्रोल में रहती है।

4. फूल गोभी –

इसमें एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी से भरपूर होती है, जो हमारे digestion को बेहतर बनाने के साथ-साथ ब्रेन फंक्शन और मूड को बेहतर करती है। कार्ब्स कम होने की वजह से ये हमारे इन्सुलिन को भी कण्ट्रोल करती है।

5. ग्रीन टी –

इसकी तासीर गर्म होती है। इसके सेवन से वजन कम होता है कयूंमि इसकी पत्तियों में कई bioactive तत्व पाए जाते हैं। इसके नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल के साथ-साथ डायबिटीज भी कण्ट्रोल होती है।

6. पालक –

पालक में मैग्नीशियम, पोटैशियम, आयरन और फोलेट आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। मैग्नीशियम हमारे ब्लड शुगर लेवल को कम करने में काफी मदद करता है और इससे हमारी आँखों की रोशनी भी तेज होती है।

7. योगाभ्यास करें –

योगाभ्यास में आप सूर्य नमस्कार कर सकते हैं क्यूंकि ये आपके पूरे शरीर का व्यायाम कर देगा और मधुमेह तथा मोटापे जैसे रोगों से बचाएगा। जो व्यक्ति इसे नहीं कर सकते वे तेज चलना या कोई स्पोर्ट्स खेल सकते हैं।

8. करेले का जूस –

खीरा, करेला और टमाटर का जूस लें। इसमें सदाबहार के 7 फूल और नीम के 7 पत्ते मिला लें। फिर इसे मिक्सी में पीस लें और पियें। डायबिटीज को नियंत्रित करने में रामबाण उपाय है।

9. मेथी का पानी –

मधुमेह में मेथी का पानी बहुत ही उपयोगी है। इसे सुबह खाली पेट पीने से शरीर detoxify हो जाता है। साथ ही यह आपके वजन को कम करने में सहायक है। मेथी में fibres, starch, phosphoric acid होता है जो हमारे ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में सहायक हैं।

10. जामुन की गुठली –

जामुन की गुठली, गिलोय, चिरायता या कालमेघ को बराबर मात्रा में लेकर पाउडर बना लें और उसे 1-1 चम्मच सुबह-शाम लें अथवा गिलोय, कालमेघ व चिरायता को रातभर पानी भिगोकर सुबह उस पानी से भी डायबिटीज कण्ट्रोल होती है।

11. सफेद पेठा और बेल पत्र का जूस –

सफेद पेठा का जूस निकालते समय उसका बीज और छिलका हटा दें नहीं तो जूस कड़वा हो जाएगा। जूस निकालते समय 1 बेल पत्र भी डालें। ये उपाय डायबिटीज को खत्म करने में बहुत ही उपयोगी है।

12. भिंडी –

भिंडी फाइबर से भरपूर है। आयुर्वेद के अनुसार ऐसा माना जाता है कि भिंडी इन्सुलिन की sensitivity को बढ़ा देती है जिससे pancreas का इन्सुलिन प्रोडक्शन बढ़ जाता है।

13. पर्याप्त नींद –

डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए व्यक्ति को कम से कम 7 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए। क्यूंकि अच्छी और गहरी नींद लेने से हमारा शरीर जल्दी रिकवरी करता है और मस्तिष्क तनाव मुक्त रहता है।

डायबिटीज मरीजों के लिए डाइट चार्ट

सुबह-सुबह 1 कप चाय/ ताजा नारियल पानी + 10-15 pcs dry fruits (किशमिश न लें)
नाश्ता दलिया/ बेसन का पूड़ा/ और स्टफ्ड चपाती दही के साथ
मिड मॉर्निंग ताजे फल या उनका रस
लंच 2 मल्टीग्रेन रोटी + पनीर/ दाल + सलाद (100 gm) (चटनी न लें)
इवनिंग चाय – 1 कप + रोस्टेड चना
डिनर से पहले ताजा कटा फल 150 gm/ होम मेड सूप 1 bowl
डिनर 2 मल्टीग्रेन रोटी + दाल + मौसमी सब्ज़ी – 1 कटोरी
सोने से पहले हल्दी वाला दूध या अंजीर दूध 200 ml

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न- डायबिटीज मरीजों को किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए?

उत्तर- उन्हें मीठे फल, ज्यादा तली हुई चीजें, जंक फूड्स, चीनी, शुगर फ्री, मिठाइयां, पेस्ट्रीज, आइसक्रीम, सफेद ब्रेड, चिप्स और पैकेट वाला खाने जैसे केचप आदि इनका सेवन नहीं करना है।

प्रश्न- ब्लड शुगर लेवल कितना होना चाहिए?

उत्तर- किसी भी व्यक्ति जो डायबिटिक नहीं है, उसकी खाली पेट की शुगर 100 mg/dl और खाना खाने के बाद की शुगर 140 mg/dl से कम होनी चाहिए।

निष्कर्ष

उपर्युक्त घरेलू नुस्खों का कोई भी नुकसान नहीं है। क्या आपने किसी नुस्खे का प्रयोग किसी डायबिटिक पेशेंट पर करके देखा है ? यदि हाँ तो कमेंट बॉक्स में अपना एक्सपीरियंस शेयर कीजिये। क्यूंकि अभी तक इस बीमारी का कोई परमानेंट इलाज नहीं आया है, हम सिर्फ इसे नियंत्रित ही कर सकते हैं तो इसलिए हमें किसी भी दवाई या घरेलू नुस्खे का प्रयोग करने से पहले चिकित्सक से अवश्य सम्पर्क कर लेना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें –

बच्चों में हकलाना और तुतलाना दूर करने के असरदार उपाय

पुरुषों में स्टैमिना बढ़ायें ये आसान चमत्कारी नुस्खे

चरक संहिता के अनुसार मानसून में कौनसा आहार लेना चाहिए?

- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article