Thursday, January 20, 2022
Ayurvedic Medicineआयुर्वेद में क्यों माना गया है गुड़ को सेहत का खजाना |...

आयुर्वेद में क्यों माना गया है गुड़ को सेहत का खजाना | Benefits and Side Effects of Jaggery in HIndi

आयुर्वेद में क्यों माना गया है गुड़ को सेहत का खजाना Benefits and Side Effects of Jaggery in HIndi

Contents hide
1 गुड़ कैसे बनता है?

सर्दियों का मौसम चल रहा है और इस मौसम में गुड़ खाने का अपना ही मजा है। आयुर्वेद में शुद्ध देसी गाय के घी, शुद्ध तेल के बाद अगर किसी पर अधिक जोर दिया गया है तो वो गुड़ ही है। गुड़ मज्जा, रक्त, मेद और मांस को बढ़ाने वाला होता है। यह खाने में मीठा और स्वादिष्ट होता, इसे चीनी के स्थान पर उपयोग किया जा सकता है। क्यूंकि चीनी में सिर्फ कैलोरीज होती है, कोई मिनरल्स और विटामिन्स नहीं होते और दूसरी तरफ गुड़ गुणों की खान है। इसमें पोटैशियम, मैग्नीशियम,कैल्शियम, फॉस्फोरस और आयरन होता है। हम आपको गुड़ सम्बन्धी पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

सिर में क्यों होती है रूसी और खुजली, उपाय जानने के लिए लिंक पर क्लिक करें

गुड़ कैसे बनता है?

सर्वप्रथम गन्नों से मशीन के माध्यम से उनका रस निकाल लिया जाता है। फिर इस रस को गर्म किया जाता है और इसे इतना गर्म किया जाता है कि इसमें कोई अशुद्धता न रह जाए। इसमें शुद्धता के लिए शुक्लाई के पौधे का रस भी डाला जाता है। जब अंततः गर्म होकर रस का रंग हल्के भूरे रंग में आ जाता है तो इसे अलग-अलग सांचों में डालकर आकार दिया जाता है। ये विधि है आर्गेनिक गुड़ बनाने की और जो इंडस्ट्री में गुड़ तैयार किया जाता है उसमें केमिकल मिलाया जाता है, वो स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता।

गुड़ के प्रकार (Types of Jaggery)

गन्ने के रस के अलावा खजूर से भी गुड़ को बनाया जाता है लेकिन इसे स्टोर करना थोड़ा मुश्किल होता है और ये गन्ने वाले गुड़ से महंगा भी होता है। गुड़ पाउडर रूप में मिलता है, जिससे शक़्कर के नाम से जाना जाता है। हरियाणा, पंजाब में इसे दूध में मिलाकर पीया जाता है।

गुड़ के फायदे (Benefits and Side Effects of Jaggery in HIndi)

भारत में भोजन के बाद गुड़ खाने की परम्परा रही है और शुभ कार्यों में भी गुड़ चखा जाता है। इसके साथ-साथ इसके स्वास्थ्य संबंधी भी अनेक ( Benefits and Side Effects of Jaggery in HIndi) फायदे हैं। आइये जानते हैं –

कफ नाशक है गुड़

जिन लोगों को सर्दी-जुकाम की समस्या है और बार बार बलगम बन जाती है तो उनके लिए गुड़ का सेवन करना बहुत उपयोगी है। क्यूंकि शरीर में कफ बढ़ने से फॉस्फोरस घटता है और गुड़ में पर्याप्त मात्रा में फॉस्फोरस मोजूद होता है।

गुड़ खून की कमी को करता है दूर

गुड़ में आयरन भरपूर मात्रा में होता है जो खून की कमी को दूर करने में अहम भूमिका निभाता है। 30 वर्ष के बाद महिलाओं में अक्सर खून की कमी हो जाती है। इसलिए महिलाओं को गुड़ का सेवन अवश्य करना चाहिए।

पेट में गैस की समस्या को दूर करता है गुड़

भोजन करने बाद कुछ लोगों को पेट में गैस बन जाती है। यदि वे भोजन के थोड़ा-सा गुड़ खाएं तो वे इस समस्या से बच सकते हैं। इसके साथ ही अन्य पाचन तंत्र संबंधी समस्याओं को ठीक करने में भी गुड़ बहुत उपयोगी है।

रक्त शुद्ध करता है गुड़

रक्त में मोजूद विषैले तत्वों को बाहर निकालने के लिए आप गुड़ का प्रयोग करें। आप थोड़े से गुड़ को पानी में मिलाकर फिर किसी कपड़े से छान लें और इसका सेवन करें। रक्त शुद्ध होगा और त्वचा सम्बन्धी रोग भी नहीं होंगे।

ब्लड प्रेशर होगा नियंत्रित गुड़ के सेवन से

गुड़ में पोटैशियम उच्च मात्रा में होता है, जो ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल करने में अति उपयोगी है। कभी कभी दिल की धड़कन बढ़ जाती है यानि हृदय की लय अनियमित हो जाती है तो उसके लिए भी गुड़ का सेवन उत्तम है।

गुड़ आँतों को मजबूती प्रदान करता है

पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम होने की वजह से गुड़ आपकी आँतों के लिए बहुत ही उपयोगी है। भोजन के बाद थोड़ा-सा गुड़ अवश्य खाएं, ये आपके पाचन शक्ति को भी बढ़ाएगा और आँतों को भी दुरुस्त करेगा।

पेट की गर्मीं को दूर करता है

आप भी सोच रहे होंगे कि गर्म तासीर का गुड़ पेट की गर्मी को कैसे दूर कर सकता है। तो इसके लिए आपको गुड़ को पानी में घोलकर पीना होगा। इससे पेट की गर्मी दूर होगी।

बालों का समय से पहले सफेद होना और झड़ना भी रोकता है गुड़

गुड़ में आयरन, कैल्शियम और पोटैशियम की प्रचुर मात्रा होती है, जो आपके बालों को समय से पहले सफेद होने होने और झड़ने से रोकती है। आपको 1 चम्मच मेथी दाना के पाउडर में 2 चम्मच गुड़ मिलाकर खाना है।

गुड़ जोड़ों के दर्द को ठीक करने में भी है उपयोगी

जोड़ों में दर्द होना आज के समय में आम समस्या हो गयी है क्यूंकि जीवनशैली ही आरामदायक हो गयी है। जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए आपको एक टुकड़े गुड़ के साथ अदरक का सेवन करना चाहिए। इससे जोडों के दर्द में बहुत आराम मिलता है।

खजूर का गुड़ खाने के फायदे

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि गुड़ के दो प्रकार होते हैं – एक गन्ने से बनता है और दूसरा गुड़ से। अब जानते हैं खजूर से बने गुड़ के फायदे –

  • शरीर में एनर्जी बढ़ती है। इसके साथ ही सुस्ती, थकान और आलस्य दूर होता है
  • मन प्रसन्न रहता है क्यूंकि शरीर में बल का एहसास होता है
  • मधुमेह के रोगी भी थोड़ी-सी मात्रा में खा सकते हैं
  • जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं, वे इसका सेवन अवश्य करें
  • आँखों की रोशनी, पेट का कैंसर में भी लाभ मिलता है
  • शहद के साथ सेवन करने से दस्त रोकने में मदद मिलती है
  • जो बच्चे रात को बेड पर ही पेशाब कर देते हैं, माँ-बाप उन्हें खजूर का गुड़ जरूर खिलाएं
  • पोटैशियम अधिक होने से किसी भी प्रकार के स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है
  • महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी है क्यूंकि यह पीरियड्स में होने वाले अधिक रक्तस्त्राव को कम करता है

गुड़ और चना खाने के फायदे

हिन्दू धर्म में महाबली हनुमान जी को गुड़ चने का भोग लगाया जाता है क्यूंकि इससे शरीर में बल-वृद्धि होती है। इसके अन्य भी कई फायदे हैं –

  • एनीमिया रोग में फायदेमंद है
  • शरीर की कमजोरी दूर होती है
  • कब्ज़ की समस्या भी होती है दूर
  • सर्दियों में कई बार पेशाब बार-बार आता है तो उस समय आप थोड़ा-सा गुड़ चना खा लें, ये समस्या ठीक हो जायेगी
  • वजन को नियंत्रित रखने में भी कारगर है

गुड़ रोटी खाने के फायदे

गुड़ रोटी बहुत ही स्वादिष्ट होती है और साथ ही शरीर को मजबूत बनाने के लिए बहुत उपयोगी है। आप गुड़ रोटी पर थोड़ा-सा गाय का मक्खन लगाकर खायें, मैं कहता हूँ स्वाद ही आ जाएगा और अब बात करता हूँ फायदों की तो सुनो, आयरन भरपूर मिलेगा, आँखों की ज्योति बढ़ेगी, इम्युनिटी बढ़ेगी, चेहरे की रंगत निखरेगी, माइग्रेन की समस्या से राहत मिलेगी और सारा दिन शरीर में स्फूर्ति रहेगी। आप इसे नाश्ते में खा सकते हैं।

प्रेगनेंसी में गुड़ खाने के नुकसान

गर्भावस्था के दौरान आप खजूर का गुड़ खा सकते हैं, इसका कोई नुकसान नहीं है। हाँ यदि आपको किसी चीज से एलर्जी हो तो एकबार अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें। वैसे बात करूं तो ये uterus को मजबूत बनाता है और बच्चे पैदा करते वक्त ज्यादा तकलीफ का सामना नहीं करना पड़ता।

गुड़ घी खाने के फायदे

सर्दियों के मौसम में गुड़ घी खाने से शरीर में रूखपन की समस्या नहीं होती। यदि आप इसके ऊपर दूध का सेवन करते हैं तो ठंड में गर्माहट का एहसास होता है और साथ ही ये आपकी हड्डियों की मजबूती और कान दर्द के लिए भी बहुत फायदेमंद है। जो लड़कियां अपने चेहरे को चमकदार बनाना चाहती हैं, उन्हें गुड़-घी अवश्य खाना चाहिए।

ज्यादा गुड़ खाने के नुकसान

देखिये अधिक मात्रा में तो रोटी भी नुकसानदायक ही है। इसलिए गुड़ का अधिक सेवन करने से आपको कुछ नुकसान हो सकते हैं –

  • दांतों में कैविटी की समस्या हो सकती है
  • गर्मियों में ज्यादा सेवन से नकसीर की समस्या हो सकती है
  • टाइप-2 डायबिटीज का खतरा भी हो सकता है
  • शरीर पर दाने निकलने की समस्या भी हो सकती है
  • शरीर के कुछ अंगों में सूजन हो जाती है

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – प्रतिदिन कितना गुड़ खाना चाहिए?

उत्तर – यदि सर्दियों के दिनों में गुड़ का सेवन कर रहे हैं तो 50 से लेकर 100 gm तक खा सकते हैं। यदि गर्मियों में खाना चाहते हैं तो 20 gm से अधिक न खाएं।

प्रश्न – असली गुड़ की पहचान कैसे करें?

उत्तर – आजकल बाजार में केमिकल वाला गुड़ बहुत बिक रहा है जो आपकी सेहत के लिए हानिकारक है। इसलिए गुड़ खरीदने से पहले उसका रंग देखकर उसकी पहचान करें। असली गुड़ का रंग वैसे ही होता है जैसे चॉकलेट का रंग। जितना सफेद गुड़ होगा समझिये उतना ज्यादा उसमें केमिकल है। इसलिए हल्के भूरे या चॉकलेट रंग का गुड़ ही खरीदे।

इन्हें भी पढ़ें –

बवासीर से तुरंत राहत दिलाएंगे ये आसान घरेलू उपाय

2 वर्ष से कम आयु के बच्चों के पेट दर्द का जबरदस्त घरेलू उपचार

1 COMMENT

  1. […] ही करना होगा। आप मीठी फुलियां शक्कर (गुड़ का चूरा) मिलाकर खा सकते हैं। ये बहुत ही […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

Latest article

More article

error: Content is protected !!