Thursday, January 20, 2022
Body Healthपेनिस हेड में इन्फेक्शन के कारण और इसका घरेलू उपचार | 6...

पेनिस हेड में इन्फेक्शन के कारण और इसका घरेलू उपचार | 6 Balanitis Ayurvedic Treatment in Hindi

पेनिस हेड में इन्फेक्शन के कारण और इसका घरेलू उपचार Balanitis Ayurvedic Treatment in Hindi

बेलेनाइटिस पुरुषों में पायी जाने वाली एक बहुत ही आम समस्या है। लगभग 20 में से एक पुरुष इस समस्या से पीड़ित है। लेकिन शर्म के कारण वे किसी को बताने में हिचकिचाते हैं और तनाव का शिकार हो जाते हैं। ज्यादातर ये समस्या अनसिरकमसाइज़्ड पेनिस में देखने को मिलती है क्यूंकि कई बार कुछ लोग फोरस्किन को हटाकर सफाई नहीं करते जिस वजह से जीवाणु और कीटाणुओं के पनपने के कारण बेलेनाइटिस की समस्या हो जाती है। लेकिन हम घर पर ही कुछ उपाय और नियम अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन पहले जानेंगे बेलेनिटिस क्या है?, इसके कारण और लक्षण।

वैजाइनल एक्ने से परेशान महिलाओं के लिए घरेलू उपाय, जानने के लिए लिंक पर क्लिक करें

बेलेनिटिस क्या है?

बेलेनिटिस पुरुषों के गुप्तांग में होने वाला एक संक्रमण है। बेलेनिटिस लिंग के अग्र भाग में होता है। यहाँ छोटे-छोटे दाने, सफेदी जमा होना और सूजन हो जाती है, चिपचिपा फ्लूइड जमा होना और लालिमा होना।

बेलेनिटिस के कारण और लक्षण

साफ़-सफाई का ध्यान न रखने और अन्य कारणों की वजह से पेनिस हेड में इन्फेक्शन की समस्या होती है और आप निम्नलिखित लक्षणों द्वारा पता लगा सकते हो कि आपको बेलेनिटिस है कि नहीं।

स.कारण लक्षण
1 साफ-सफाई न करना छोटे-छोटे दाने होना
2 खुशबूदार साबुन लगाना खुजली होना
3 एसटीडी के कारण सूजन और लालिमा होना
4 डायबिटीज और थाइरोइड रोग की वजह से कभी-कभी दर्द होना
5 ज्यादा मात्रा में दवाओं का सेवन करना कई बार यौन-सम्बन्ध बनाने के बाद कट्स दिखना
6 सफेदी जमा हो जाना
7 चिपचिपा फ्लूइड निकलना

पेनिस हेड में संक्रमण को ठीक करने का घरेलू और आयुर्वेदिक उपचार (Balanitis Ayurvedic Treatment in Hindi)

हाइजीन का ध्यान रखने के साथ अन्य कुछ सरल घरेलू उपाय हैं जिनके प्रयोग से आप घर पर ही बेलेनाइटिस का इलाज कर सकते हैं। आइये जानते हैं कुछ उपाय –

नारियल तेल में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण मौजूद होते हैं जो किसी भी प्रकार के बैक्टीरियल इन्फेक्शन को दूर करने में उपयोगी हैं। आपको अपनी फोरस्किन को पीछे करके दो बूँदें नारियल तेल की पेनिस हेड पर लगानी है और हल्की ऊँगली से मालिश करनी है। ये जो दाने हो गए शिश्न पर उसे ठीक करने का उत्तम प्रयोग है। 
हल्दी में एंटीफंगल गुण भरपूर होते हैं और शहद में एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-बैक्टीरियल गुण मोजूद होते हैं। बेलेनाइटिस को ठीक करने के लिए आपको हल्दी के चूर्ण को शहद और आंवले के स्वरस में मिलाकर पीना चाहिए। 
अंगूर मधुमेह में भी फायदेमंद है क्यूंकि बेलेनिटिस डायबिटीज के कारण भी हो जाता है। इसलिए आपको अंगूर के रस का सेवन करना चाहिए। इससे पेशाब में होने वाली जलन भी शांत हो जाती है। 
दालचीनी सूजन और दर्द को दूर करने में बहुत उपयोगी होती है। इसलिए शिश्न में आई सूजन को दूर करने के लिए दालचीनी और सोंठ को दूध में उबालकर पिलाना चाहिए। 
सर्वांगासन एक ऐसा आसन है जो रक्त के प्रवाह को पेनिस तक लाता है। इस आसन से सभी प्रकार के गुप्त रोगों को ठीक किया जा सकता है। साथ पेशाब में धात का आना, uti जैसी समस्या भी सर्वांगासन से ठीक की जा सकती हैं। 

बेलेनिटिस से बचाव के उपाय

अपनी जीवनशैली में निम्नलिखित बदलाव करके आप पेनिस हेड में होने वाले इन्फेक्शन से बच सकते हैं।

  • नित्य फोरस्किन हटाकर अपने पेनिस हेड को साफ़ करें
  • कोई भी खुशबूदार साबुन का प्रयोग न करें
  • अपने शिश्न को गीला न रहने दें
  • सात्विक आहार का सेवन करें
  • ऐसी दवाओं का सेवन करना बंद करें जो बेलेनिटिस का कारण बनती है
  • बाथटब में स्नान करना बंद करें

कुछ सामान्य प्रश्नोत्तर

प्रश्न – बेलेनिटिस फंगल इन्फेक्शन है या बैक्टीरियल?

उत्तर – पेनिस हेड में जो संक्रमण होता है वो फंगल और बैक्टीरियल दोनों कारणों से हो सकता है।

प्रश्न – क्या बेलेनिटिस खतरनाक बीमारी है?

उत्तर – जी नहीं, बेलेनिटिस कोई खतरनाक बीमारी नहीं है। कुछ दिनों के उपचार में ही ये ठीक हो जाती है। बीएस समय रहते लक्षणों को देखकर उपचार करें। इसे नज़रअंदाज़ न करें।

प्रश्न – क्या बेलेनिटिस बिना किसी उपचार के ठीक हो जाता है?

उत्तर – ये तो इस बात पर निर्भर करता है कि बेलेनिटिस किस कारण की वजह से हुआ है। यदि संक्रमण किसी एसटीडी के कारण हुआ है तो उपचार की आवश्यकता होगी अन्यथा नहीं।

इन्हें भी पढ़ें –

जाने त्वचा पर छपाकि होने के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

महिलाओं में सफेद पानी की समस्या का रामबाण इलाज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

Latest article

More article

error: Content is protected !!