Anal Itching Home Remedies Hindi

गुदा में खुजली का घरेलू उपचार और कारण | (Pruritus Ani) Anal Itching Home Remedies Hindi

Spread the love

गुदा में खुजली का घरेलू उपचार, कारण और लक्षण | (Pruritus Ani) Anus Itching Home Remedies Hindi

गुदा में खुजली या लैट्रिन के रास्ते वाली जगह में खुजली होना बहुत ही आम समस्या है। लेकिन मुसीबत तब आ जाती है जब हम किसी पार्टी, मीटिंग या फॅमिली के साथ बैठे हों, तब गुदा में खुजली शुरू हो जाए तो उसे कण्ट्रोल करना मुश्किल हो जाता है। और यदि करते हैं तो स्वयं को शर्मिंदगी महसूस होती है।

कुछ लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते, जिसकी वजह से आगे चलकर गंभीर समस्याएं पैसा हो जाती हैं। बार-बार खुजली आने पर आपको जलन, irritation और कुछ डिस्चार्ज भी हो सकता है। इसलिए इसका समय से इलाज करना बहुत जरूरी है। इसके घरेलू उपचार (Anal Itching Home Remedies Hindi) हैं लेकिन उससे पहले जानेंगे Puruitus Ani क्या है और इसके कारण।

दाद, खाज और खुजली से परेशान हैं तो अपनाएं ये चमत्कारी घरेलू उपाय

Pruritus Ani (गुदा खुजली) क्या है?

गुदा खुजली जिसे मेडिकल टर्म में Pruritus Ani भी कहा जाता है। इसमें व्यक्ति को गुदा में तेज खुजली होना, ये फंगल इन्फेक्शन की वजह से भी हो सकती है। लैट्रिन करने के बाद या रात में खुजली का ज्यादा होना। जब मल में अधिक रसायन उत्पन्न हो जाएँ, तब भी गुदा में खुजली होती है। जब हम इसे खरोंचते हैं तो इससे स्किन को नुकसान या संक्रमण हो सकता है।

गुदा खुजली के कारण (Anal Itching Causes)

गुदा में खुजली कई कारणों से हो सकती है। आइये जानते हैं –

स. कारण
1 अधिक कब्ज़ रहने के कारण
2 पेट में कीड़े होने की वजह से
3 बवासीर, भगन्दर और गुदा फिशर (दरार), इन बिमारियों की वजह से
4 गुदा को आक्रामक तरीके से धोना या गुदा का सूखा होना
5 गुदा की ठीक से सफाई न करना
6 यौन संचारित संक्रमण (STD), पिनवॉर्म और yeast इन्फेक्शन के कारण
7 लम्बे समय तक दस्त भी जलन पैदा कर सकते हैं
8 ज्यादा मिर्च-मसाले वाला भोजन करने से
9 थाइरोइड, डायबिटीज और ट्यूमर भी इचिंग का कारण बनते हैं

Anal Itching का घरेलू उपचार (Anal Itching Home Remedies Hindi)

यदि आपको anal itching शुरूआती दौर में है तब इन घरेलू नुस्खों (Anal Itching Home Remedies Hindi) से आपको निश्चित तौर पर लाभ प्राप्त होगा। और यदि इचिंग बढ़ गयी है तो आपको चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए।

सरसों का तेल और हल्दी

हल्दी में थोड़ा सा सरसों का तेल मिलाकर सीधे गुदा पर लगा सकते हैं। यदि इचिंग अभी शुरू ही हुई है तो इस उपाय से निश्चित तौर पर फ़ायदा होगा। आप चुटकी भर हल्दी दूध में डालकर भी ले सकते हैं।

नीम के पत्ते

नीम के पत्तों को पीसकर और उसमें थोड़ी सी हल्दी और सरसों का तेल मिलाकर गुदा पर लगाएं। जिन्हें इचिंग के साथ बर्निंग की शिकायत है, वे इस प्रयोग से ठीक हो जायेगी।

चंदन तेल

लगातार दस्त होने के कारण गुदा दुर्बल हो जाती है और वहां गंदगी भी जमा होने लगती है, जिसके कारण जलन और खुजली की समस्या हो जाती है। इसके लिए गुदा में निरंतर घी या चंदन तेल को रुई से लगाना चाहिए।

परवर की पत्ती और मुलहठी

अनेक बार शौच जाने के कारण जिस रोगी की गुदा पित्त की गर्मी के कारण पक (फोड़ा या फुंसी होना) गयी हो, जिससे मवाद निकलने लगता है, उसे परवर की पत्ती और मुलहठी के काढ़े से गुदा को साफ़ करना चाहिए।

गर्म पत्थर

ये उपाय बहुत ही लाभकारी है पर आपको थोड़ा विचित्र लग सकता है। इसमें पत्थर को थोड़ा गर्म करके गुदा पर सेक करना होता है। पत्थर उतना गर्म करें जितना आराम से से गुदा पर लगाया जा सके। और हाँ इसे अंडरवियर के ऊपर से ही लगाना है न कि सीधा गुदा पर। इससे जलन और खुजली में काफी राहत मिलती है।

गुदा खुजली के बचाव के उपाय और दिनचर्या

आइये अब जानते हैं कैसे हम इससे बच सकते हैं और हमें कैसी दिनचर्या रखनी चाहिए ताकि हमें ये anal itching (Anal Itching Home Remedies Hindi) की दिक्कत हो ही न।

  • सफाई के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें। ज्यादा गर्म भी न हो।
  • नियमित रूप से शौच की आदत बनाएं रखें, जब लगे तभी जाएँ।
  • शौच करते हुए जोर बिल्कुल न लगाएं
  • हमेशा सूती अंडरवियर ही पहने। यह गुदा क्षेत्र को सूखा रखने में मदद करता है।
  • गुदा क्षेत्र को कभी भी गीला न रहने दें क्यूंकि ये कई समस्याओं का कारण बनता है
  • सेंटेड और दुर्गन्धयुक्त साबुन का प्रयोग करने से बचें।
  • गुदा को कभी भी नाख़ून से खुजाएँ नहीं।
  • हमेशा सॉफ्ट टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें और इससे दबाकर सुखाएं, रगड़कर नहीं।

Anal Itching से बचने के लिए क्या खाएं और क्या न खाएं

गुदा खुजली को हम काफी हद तक तो अपने आहार के माध्यम से भी ठीक कर सकते हैं। हमें अपनी दिनचर्या और आहार में थोड़ा बदलाव करना होगा। आइये जानते हैं Pruritus Ani में क्या खाएं और न खाएं।

Anal Itching से बचने के लिए क्या खाएं और क्या न खाएं

गुदा खुजली से होने वाली गंभीर समस्याएं क्या हैं?

गुदा खुजली यदि लगातार कई दिनों तक निरंतर बनी रहती है तो आपको गुदा सम्बन्धी निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं –

  1. गुदा फिशर
  2. गुदा फिस्टुला, जिसे भगन्दर कहते हैं
  3. बवासीर
  4. गुदा गाँठ

इसलिए गुदा खुजली का समय से इलाज करें और इन चारों बिमारियों से बचें।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको उपर्युक्त नुस्खों (Anal Itching Home Remedies Hindi) से भी आराम नहीं मिला और खुजली निरंतर बढ़ती जा रही है तो आपको किसी अच्छे चिकित्सक को तुरंत दिखाना चाहिए। गुदा से रक्तस्त्राव या मल रिसाव एवं बार-बार संक्रमण होने पर डॉक्टर को अवश्य दिखाएं।

कुछ सामान्य प्रश्न

प्रश्न – रात को गुदा खुजली होने के पीछे क्या कारण है?

उत्तर – यदि आपको रात के समय खुजली ज्यादा होती है तो हो सकता है आपको बवासीर या गुदा फिशर हो। अन्य कई कारण जैसे आपने दिनभर क्या खाया है, आपने अच्छे से गुदा को साफ़ किया है या नहीं या रात को गुदा पर पसीना आने के कारण भी वहां खुजली हो सकती है। इससे बचने के लिए आपको रात को गुदा को अच्छे से साफ़ करके सोना चाहिए।

प्रश्न – बच्चों को गुदा खुजली क्यों होती है?

उत्तर – बच्चों को ज्यादातर anal itching इसलिए होती है क्यूंकि वे अच्छे से सफाई नहीं कर पाते गुदा क्षेत्र की। और सबसे बड़ी जो वजह है वो है पिंगवॉर्म्स, इसकी पहचान ऐसे होती है जा बच्चा रात को सोते समय दांतों को कडीचे (रगड़ने की आवाज़) तो समझे उसके गुदा द्वार के अंदर पिंगवॉर्म्स हैं।

प्रश्न – गुदा खुजली के लिए कौनसी क्रीम बेस्ट है?

उत्तर – मल त्याग करने के बाद आप shield anovate क्रीम लगा सकते हो। इसे उंगली की मदद से या इसके अंदर एक यंत्र होता है जिसकी मदद से आप गुदा क्षेत्र पर इसे लगा सकते हो।

प्रश्न – गुदा के समस्त रोगों का नाश करने के लिए क्या करें?

उत्तर – जो व्यक्ति नियमित अश्विनी मुद्रा का अभ्यास करते हैं, उन्हें गुदा संबंधी कोई रोग नहीं छू सकता। बस इसे किसी अच्छे योग शिक्षक के निरिक्षण में ही करें।

इन्हें भी पढ़ें –

कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाएं इन आसान घरेलू उपायों की मदद से

मीराबाई चानू का डाइट पालन जानें

पुरुष अंडकोष में दर्द के कारण और लक्षण एवं घरेलू उपचार


Spread the love