Monday, May 23, 2022
Body Healthअक्ल दाढ़ निकलने के लक्षण और 7 घरेलू उपाय | Akal Daad...

अक्ल दाढ़ निकलने के लक्षण और 7 घरेलू उपाय | Akal Daad Pain Relief in Hindi

- Advertisement -

अक्ल दाढ़ निकलने के लक्षण और घरेलू उपाय Akal Daad Pain Relief in Hindi

मुंह में चार अक्ल दाढ़ होती है, 2 ऊपर और 2 नीचे सबसे आखिर में। ये ज्यादातर 17 से 25 की उम्र में निकलती हैं, कई लोगों में 25 के बाद भी निकलती हैं। एक अक्ल दाढ़ इंसान को कभी न कभी जरूर परेशान करती है। कुछ लोग इसे निकलवाने से डरते हैं क्यूंकि उन्हें लगता है कि इसे निकलवाने से कहीं अक्ल कम न हो जाए। ऐसा बिल्कुल नहीं होता क्यूंकि केवल इसका नाम अक्ल दाढ़ है, इंसान की समझ या नासमझ से इसका कोई लेना देना नहीं है।

आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 85% लोगों को अपने जीवनकाल में कभी न कभी अक्ल दाढ़ निकलवानी ही पड़ती है। 10 में 9 लोगों को अक्ल दाढ़ में होने वाला दर्द परेशान करता है। इसके लिए हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताते हैं जिनकी सहायता से आप अक्ल दाढ़ के दर्द से राहत पा सकते हो।

दांतो की सड़न और दर्द को दूर करने के लिए करिये ये आसान घरेलू उपचार

अक्ल दाढ़ का दर्द घरेलू उपाय (Akal Daad Pain Relief in Hindi)

अक्ल दाढ़ का दर्द किसी भी समय हो सकता है और यदि रात के समय हो जाए तो चिकित्सक के पास भी नहीं जाया जा सकता, इसलिए निम्नलिखित घरेलू उपायों द्वारा आप दर्द में राहत पा सकते हैं –

नमक वाले पानी से गरारे

नमक वाले पानी से गरारे करने से मुंह में पैदा हुए बैक्टीरिया खत्म होते हैं और मसूड़े मजबूत होते हैं। अक्ल दाढ़ सबसे आखिर में आती है जिसमें कई बार भोजन के कण फस जाते हैं, जिससे बैक्टीरिया का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए नमक के पानी के गरारे दिन में 3-4 बार अवश्य करें।

लौंग का तेल

लौंग को दर्दनाशक माना जाता है और ये दांत दर्द में प्रयोग किया जाने वाला सबसे आम पदार्थ है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो दर्द को निचोड़कर राहत दिलाते हैं। ऊँगली पर थोड़ा-सा लौंग का तेल डालकर अक्ल दाढ़ और मसूड़े पर अच्छे से मसाज करें या कॉटन पर लगाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाकर रख लें।

अदरक का रस

अदरक में बैक्टीरिया को खत्म करने वाले सभी गुण मौजूद होते हैं और यदि आप इसके साथ लहसुन का पेस्ट भी मिला लें तो सोने पे सुहागा। इन दोनों के पेस्ट को प्रभावित मसूड़े और दांत पर लगाएं, कुछ ही देर में दर्द दूर होने लगेगा।

चायपत्ती के बैग्स

चायपत्ती के बैग्स में टैनिन्स पाया जाता है जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गन होते हैं। इससे मसूड़े में होने वाली सूजन और दर्द में काफी आराम मिलता है। इसके लिए आप एक कप पानी उबालें और उसमें टी बैग को डालकर अच्छे से हिला लें। इसके बाद इसे ठंडा होने के लिए फ्रिज में रख दें। ठंडा होने के बाद मुंह में एक घूंट भरे और कुछ देर ऐसे ही रहने दें।

सिकाई करें

किसी सूती कपड़े को तवे पर गर्म कर लें और बाहर से जबड़े पर रखकर उससे सिकाई करें। इससे भी दर्द में तुरंत लाभ मिलता है।

हल्दी और सरसों का तेल

एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर हल्दी किसी भी प्रकार के दर्द और सूजन को कम करने में अत्यंत लाभकारी है। सरसों का तेल और हल्दी के मिश्रण का प्रयोग दांतों को सफेद और मसूड़ों को मजबूत करने के लिए किया जाता है। 2 चुटकी हल्दी, 1 चुटकी नमक और 5 बूँदें सरसों का तेल – अच्छे से मिक्स कर लें और ऊँगली की मदद से अक्ल दाढ़ पर लगाएं और मसूड़े पर मसाज करें। कुछ ही देर में दर्द में राहत मिलेगी।

अक्ल दाढ़ निकलने के लक्षण

अक्ल दाढ़ 17 से 25 साल की उम्र में किसी भी वक्त निकल सकती है और इसके निकलने से पहले कुछ लक्षण नजर आने लगते हैं। आइये जानते हैं –

अक्ल दाढ़ निकलने के लक्षण

अक्ल दाढ़ निकलने के बाद क्या खाना चाहिए

अक्ल दाढ़ निकलने के बाद कुछ दिन खाने-पीने का ध्यान रखना चाहिए –

  • आपको खिचड़ी, दलिया आदि तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए
  • रस भरे फल या फलों का रस पी सकते हैं
  • दाल का पानी और सूप भी उत्तम है
  • पनीर का सेवन अवश्य करें क्यूंकि इसे खाना और निगलना आसान होता है
  • दही का सेवन फायदेमंद है
  • आलू खाना भी लाभकारी है
  • केले भी जरूर खाएं

क्या न खाएं –

  • ठोस भोजन न करें
  • तीखा भोजन भी न करें
  • जंक फ़ूड का सेवन मना है
  • कोल्डड्रिंक्स भी न पीएं
  • कॉफ़ी और चाय भी न पीएं
  • अधिक जोर से चबाने वाला भोजन भी न करें

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – अकल दाढ़ निकलने में कितना समय लगता है?

उत्तर – अकल दाढ़ 17 से 25 साल की उम्र तक निकलती है। कुछ लोगों की इसके बाद भी निकलती है। ये सबसे आखिर में ऊपर नीचे निकलती है।

प्रश्न – अकल दाढ़ निकलने के क्या नुकसान हैं?

उत्तर – जैसे बाकी दांत निकलते हैं, वैसे ही अकल दाढ़ भी निकलती है। लेकिन इसके निकलने पर काफी दर्द होता है क्यूंकि कई बार इसे जगह नहीं मिलती और ये साथ वाले दांतों को हिलाकर जगह बनाती है।

- Advertisement -

Exclusive content

Latest article

More article