कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी

कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, क्या होंगे इसके लक्षण, बच्चों को इससे कैसे बचाएं? | Corona Third Wave Details in Hindi

Spread the love

कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, क्या होंगे इसके लक्षण, बच्चों को इससे कैसे बचाएं? Corona Third Wave Details in Hindi

कोरोना एक ऐसी महामारी है जिसने पूरे विश्व को झकझोर के रख दिया है। इसकी पहली और दूसरी लहर ने बहुत नुकसान किया है, जिसमें ज्यादा बुजुर्ग और युवा थे। अब इसकी तीसरी लहर आने की संभावना बताई जा रही है जो कि बच्चों के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकती है।

डॉक्टर गुलेरिया जो AIMS के निदेशक हैं उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर एक सुकून भरी जानकारी साँझा की है। उन्होंने कहा है कि भारत के ज्यादातर संख्या में कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबाडीज विकसित हो चुकी हैं। अब लोगों को कोरोना की तीसरी लहर को लेकर ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है।

कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी?

भारत में कोरोना की तीसरी लहर अगस्त के मध्य में आने के आसार हैं और सितम्बर के अंत तक ये अपने पीक पर होगी। माना जा रहा है कि इस लहर से बच्चों को अधिक खतरा है और ये सीधा फेफड़ों पर असर करेगी। दूसरी लहर ने भारत में सबसे ज्यादा तांडव मचाया था बस हमें अब सतर्क रहने की जरूरत है। कोरोना से बचाव के उपायों को प्रयोग में लाने से हम तीसरी लहर को रोक सकते हैं, बस किसी किस्म की लापरवाही न बरतें।

कोरोना की पहली, दूसरी और तीसरी लहर के लक्षण

कोरोना ने अपने कई रूप दिखाए हैं। तीनों लहरों के लक्षणों को जानते हैं –

कोरोना की पहली, दूसरी और तीसरी लहर के लक्षण

कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को कैसे बचाएं?

विशेषज्ञों की माने तो भारत में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों के अधिक प्रभावित होने की आशंका है। लेकिन हमें घबराना नहीं है, बस कोरोना नियमों का पालन करते हुए कुछ सावधानियां बरतनी है।

आयुष मंत्रालय के सुझाव
  • बच्चों को अक्सर अपने हाथ धोने चाहिए
  • बाहर जाते समय मास्क का इस्तेमाल अवश्य करें
  • 3 लेयर सूती कपड़े का मास्क बेहतर है
  • बच्चों को यात्रा कराने से बचें
  • 2 साल से बड़े बच्चों को 2 टाइम ब्रश कराएं
  • 5 से 18 वर्ष के बालकों को हल्का गुनगुना पानी पिलायें
  • बच्चों की तेल मालिश करें
  • गर्म पानी से गरारे कराएं। ज्यादा छोटे बच्चों को गरारे न करवाएं।
  • 5 वर्ष से बड़े बच्चों को प्राणायाम और मैडिटेशन भी कराएं
  • इम्युनिटी बढ़ाने के लिए च्वनप्राश, काढ़ा और हल्दी दूध दें
  • पर्याप्त नींद लेना बच्चों के लिए बहुत जरूरी है
  • हाइड्रेट रहने के लिए तरल पदार्थ ज्यादा दें
कुछ मनोवैज्ञानिक सुझाव

डॉक्टर पंकज कुमार जो एक मनोचिकित्सक हैं, वे बताते हैं कि कैसे बच्चों को मानसिक रूप से मजबूत रखना है क्यूंकि वो माँ-बाप को प्रभावित हुआ देखकर घबरा सकते हैं। आइये जानते हैं उनके द्वारा बताये गए कुछ सुझाव –

  • माँ-बाप को बिल्कुल भी पैनिक नहीं होना है
  • बच्चों के सामने मौतों के बारे में बातचीत न करें
  • जब बच्चों में चिड़चिड़ापन, झुंझलाहट दिखे तो उसे ज्यादा केयर की आवश्यता है
  • माता-पिता बच्चों के साथ ज्यादा समय बिताएं
  • कोई भी न्यूज़ हो वो अपने माध्यम से बिना नेगेटिविटी के बच्चों तक पहुंचाएं
बच्चों में होने वाले लक्षण

डॉक्टर राहुल भार्गव कहते हैं कि यदि बड़ों में vaccination पूरा हो जाए तो तीसरी लहर से बच्चों को कोई खतरा नहीं होगा। इजराइल और अमेरिका से रिपोर्ट भी आयी है कि भारत में यदि एडल्ट वक्सीनशन पूरा कर लिया जाता है तो तीसरी लहर आएगी ही नहीं। यदि फिर भी आती है तो बच्चों में निम्नलिखित लक्षण देखने को मिल सकते हैं।

  1. बच्चों को 4-5 दिन से ज्यादा बुखार रहना
  2. ऑक्सीजन लेवल 95% से नीचे
  3. दस्त लगना
  4. बच्चा यदि खाने की मात्रा कम कर दे तो गड़बड़ी हो सकती है
  5. सांस लेने में तकलीफ होना
  6. बच्चा सुस्त लगने लगे
  7. छोटा बच्चा यदि माँ का दूध पीना बंद कर देता है या चिड़चिड़ापन आ जाता है
  8. स्किन पर rashes होना
  9. यदि बच्चा बात समझने में असमर्थ हो रहा हो
बच्चों का खान-पान का रखें ख्याल

बच्चों के खाने-पीने का ख़ास ध्यान रखें। आइये जानते हैं क्या-क्या खाने में लेना है और क्या नहीं –

स.क्या खाएं क्या न खाएं
1 बच्चों को पौष्टिक खान दें, जिसे हम बैलेंस डाइट कहते हैं जंक फ़ूड को बिल्कुल न कह दें
2 ताजा फल, सब्जियां और दालों का सेवन करें बाजार से बनी हुई सब्ज़ी या दाल न खाएं
3 आलू, शकरकंदी खाएं, इससे इम्युनिटी बढ़ती है डिब्बा बंद जूस न पीएं
4 veg सूप पीएं सब्जियों की ज्यादा पकाकर न खाएं। इससे पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं
5 मांसाहार के शौक़ीन हैं तो मछली का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है कोई भी नशीली चीज जैसे शराब, सिगरेट आदि का सेवन न करें

कुछ सामान्य प्रश्न

प्रश्न – क्या बच्चों की वैक्सीन भारत में बन गयी है?

उत्तर – भारत में अभी सिर्फ 18 वर्ष से ऊपर के लोगों को वैक्सीन दी जा रही है। अभी तक सिर्फ fizer कंपनी ने वैक्सीन बनाई है जो 12 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों को लग सकती है। लेकिन भारत में अभी ये वैक्सीन मौजूद नहीं है।

प्रश्न – क्या vaccination के बाद भी कोरोना हो सकता है?

उत्तर – डॉक्टर रवि गोडसे बताते हैं कि vaccination के बाद covid होने के chances बहुत कम है। वो भी सिर्फ 20%, इसलिए सभी 18 वर्ष के ऊपर के लोगों को वैक्सीन जरूर लगवानी चाहिए। इससे हम तीसरी लहर से बच्चों पर पड़ने वाले खतरे को भी रोक सकते हैं।

प्रश्न – 2 वर्ष से कम बच्चों का माता-पिता कैसे ध्यान रखें कि इसे कोरोना के लक्षण तो नहीं?

उत्तर – देखिये 1 या 2 साल का बच्चा चिलायेगा नहीं कि उसे यहाँ दर्द हो रही है या ये दिक्क्त हो रही है। इसलिए माता-पिता को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। यदि respiratory रेट ज्यादा हो जैसे गर्दन की मसल्स तेजी से चलें या जो फेफड़े हैं बहुत तेजी से धड़के तो माँ-बाप को समझ जाना चाहिए कि बच्चे को सांस लेने में दिक्क्त हो रही है।

प्रश्न – Multi System Inflammatory syndrome क्या है?

उत्तर – multi system inflammatory syndrome – ये बच्चों में इटली में सबसे पहली बार पायी गयी थी। इसमें तेज बुखार आना, rashes होना, जॉइंट्स में पेन होना- ये लक्षण होते हैं जिसे आपको पकड़कर antibody टेस्ट कराना है covid का। यदि वो पॉजिटिव आती है तो ये मान कर चलिए ये covid singrauli है और इसका इलाज streoid के माध्यम से ही करना है।

इन्हें भी पढ़ें –

इम्युनिटी को बढ़ाने के 11 असरदार घरेलू उपाय

दांतों के दर्द से परेशान हैं तो अपनाये ये आसान चमत्कारी उपाय

कम हो गया है स्टामिना तो प्रयोग में लाएं ये तरीके। जाने क्या फर्क है stamina और endurance में


Spread the love

2 thoughts on “कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी, क्या होंगे इसके लक्षण, बच्चों को इससे कैसे बचाएं? | Corona Third Wave Details in Hindi”

  1. Pingback: गुदा में खुजली का घरेलू उपचार और कारण | (Pruritus Ani) Anal Itching Home Remedies Hindi - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

  2. Pingback: स्वाद और गंध न आने पर क्या घरेलू उपाय करें | Home Remedies For Taste & Smell Loss in Hindi - घरेलू नुस्खे - चरक संहिता

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *